बांग्लादेश: परिवार के 8 लोगों ने खुद को उड़ाया, आतंकियों की तलाश में पुलिस ने मारा था छापा


ढाका(31 मार्च): बांग्लादेश की राजधानी ढाका में गुरुवार को आतंकियों की तलाश में छापेमारी के दौरान एक फैमिली ने खुद को उड़ा लिया।


- पुलिस ने बताया कि धमाके में 7-8 लोगों के मारे जाने की आशंका है।


- मारे गए लोगों के तार ढाका में पिछले साल हुए आतंकी हमले से जुड़े बताए गए हैं।


-  ढाका अटैक में एक भारतीय लड़की समेत 22 लोगों की मौत हुई थी, इनमें ज्यादातर विदेशी टूरिस्ट थे। अटैक की जिम्मेदारी आईएस ने ली थी।


- काउंटर टेररिज्म यूनिट के चीफ, मोनिरुल इस्लाम ने बताया, ''पुलिस को आतंकी हमले और आईएस मॉड्यूल से जुड़ा खुफिया इनपुट मिला था। नासिरपुर और आसपास के इलाके में आतंकियों के खिलाफ 'ऑपरेशन हिट बैक' लॉन्च किया गया।”


- ''सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस ने एक घर पर रेड की। लेकिन, घर के लोगों ने खुद को उड़ा लिया। फैमिली के 7-8 लोगों की भी मौत हुई। मरने वालों में महिलाएं और बच्चे शामिल हैं। धमाका काफी तेज था, लाशों की पहचान नहीं की जा सकी है।''


- ''सिक्युरिटी फोर्सेस ने इस इलाके को दो दिन से घेरा हुआ था। इस दौरान ड्रोन से मौके की जानकारी भी जुटाई गई। आतंकियों को सरेंडर करने के लिए भी कहा गया। लेकिन उन्होंने सरेंडर नहीं किया।''


- मारे गए संदिग्धों के पड़ोसी ने दावा किया, ''जब घर में मौजूद लोगों को लगा कि अब भागने का कोई रास्ता नहीं है तो उन्होंने ब्लास्ट कर सुसाइड कर लिया। यहां दो 

कपल अपने 5 बच्चों के साथ रहते थे। करीब सात साल पहले उन्होंने घर किराए पर लिया था।''


- ''दोनों कपल की एक्टिविटीज काफी संदिग्ध थीं। वे अपने बच्चों को भी हमेशा घर में ही रखते थे। उन्हें बाहरी लोगों से मेलजोल नहीं करने दिया जाता था।''