बलूचिस्तान में नागरिकों को भागने पर मजबूर कर रही है पाक आर्मी

नई दिल्ली (23 फरवरी): पीओके से होकर गुजरने वाले चीन-पाकिस्तान इकोनॉमिक कॉरिडोर (सीपीईसी) के खिलाफ बलूच नागरिकों का गुस्सा बढ़ता जा रहा है। बलूच नागरिकों ने विरोध जताने के लिए लंदन में चीनी दूतावास के समाने विरोध-प्रदर्शन किया। इस विरोध प्रदर्शन को पाकिस्तान के सिंध प्रांत के रहने वाले लोगों ने भी समर्थन दिया और वे भी इस प्रदर्शन में शामिल हुए। प्रदर्शन कारियों का नेतृत्व कर रहे जावेद मेंगल ने बताया, 'बलूचिस्तान में इस वक्त युद्ध जैसे हालात हैं। 

पाकिस्तानी सेना बलूचिस्तान में सीपीईसी के बहाने ऑपरेशन करती है और बेगुनाहों को निशाना बनाती है। बलूचिस्तान में रहने वाले लोगों को वहां से जबरन भगाया जा रहा है।'पाक में बलूचिस्तान के ग्वादर से शुरू होकर यह गलियारा चीन के मुस्लिम बहुल इलाके में स्थित काशगर तक जाएगा। यह गलियारा चीन-पाकिस्तान के बीच यातायात व ऊर्जा का मिला-जुला प्रोजेक्ट है। इसके तहत समुद्र में बंदरगाह भी विकसित होगा जो भारतीय हिंद महासागर तक चीन की पहुंच बना देगा। यह रास्ता चीन को मध्य-पूर्व व अफ्रीका तक पहुंचने के लिए छोटा रास्ता उपलब्ध कराएगा, जहां हजारों चीनी कंपनियां कारोबार कर रही हैं।