चीन के खिलाफ बलूचिस्तान में जबरदस्त विरोध प्रदर्शन

नई दिल्ली (31 अगस्त): पाकिस्तान के बाद बलूचिस्तान के लोगों ने चीन के खिलाफ भी आवाज बुलंद करनी शुरू कर दी है। यहां के अवारन में बलोच रिपब्लिकन पार्टी के कार्यकर्ताओं ने अपनी जमीन पर चीन की दखलअंदाजी पर कड़ा ऐतराज जताया।

बलोच नेताओं का कहना है कि पाकिस्तान में जारी चीन की आर्थिक गतिविधियां उनके लिए बड़ा खतरा बनती जा रही हैं। प्रदर्शनकारियों में बड़ी तादाद में महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने शीर्ष बलोच नेता ब्रह्मदाग बुगती के समर्थन में नारे लगाए।

बलूचिस्तान में चीन ने कई परियोजनाओं में निवेश किया हुआ है। इन परियोजनाओं में से एक चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (सीपीईसी) है। बलूचिस्तान में 46 अरब डालर लागत की से तैयार होने वाली सीपीईसी परियोजना बलूचिस्तान स्थित ग्वादर बंदरगाह को चीन के सबसे बड़े प्रांत शिनजियांग से जोड़ेगा।

आपको बता दें कि भारत ने इस परियोजना का कड़ा विरोध किया है, क्योंकि उसका कहना है कि यह परियोजना उस गिलगित, बाल्टिस्तान और कश्मीर के उस हिस्से से होकर गुजरेगी जो दरअसल उसी के इलाके हैं।