प्रत्यूषा का हुआ अंतिम संस्कार, दुल्हन की तरह सजाया गया

मुंबई (2 अप्रैल): प्रत्यूषा बनर्जी का शनिवार शाम को अंतिम संस्कार कर दिया गया। वे शुक्रवार शाम अपने घर में फंदे से लटकी मिली थीं। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि प्रत्यूषा की मौत सफोकेशन की वजह से ही हुई थी।

राहुल ने पुलिस को बताया कि हम दो बेडरूम के फ्लैट में रहते थे। हमारे पास दो चाबियां थीं। एक चाबी प्रत्यूषा, दूसरी मेरे पास थी। जब मैंने बेडरूम में एंटर किया, प्रत्यूषा को सीलिंग फैन से लटकता हुआ पाया। मैं काफी डर गया। मैंने तुरंत पड़ोसियों को बुलाया। उनकी मदद से मैं प्रत्यूषा को कोकिलाबेन हॉस्पिटल ले गया। हमें लग रहा था कि वह जिंदा हैं। लेकिन ऐसा नहीं था। मैं डर गया। इसलिए मैंने पुलिस को इन्फॉर्म नहीं किया। हॉस्पिटल के लोगों ने पुलिस को बुलाया। डॉक्टरों ने उसे डेड डिक्लेयर कर दिया। इसके बाद मैंने प्रत्यूषा के परिवार के लोगों और कुछ करीबी दोस्तों को इसके बारे में बताया।

सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर भंडारे ने बताया कि यह साफ तौर पर सुसाइड केस है। प्रत्यूषा के माता-पिता को किसी से कोई शिकायत नहीं है। हमने कुछ बयान दर्ज किए हैं। जांच जारी है। वहीं, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि प्रत्यूषा की मौत सफोकेशन की वजह से हुई थी। यानी इसे अभी सुसाइड केस ही माना जा रहा है।

सूत्रों ने बताया कि जांच के दौरान पुलिस को प्रत्यूषा के फ्लैट से दो सेलफोन मिले। दोनों फोन की फॉरेन्सिक टेस्ट होगा। यह देखा जाएगा कि प्रत्यूषा ने आखिरी कॉल किसे किया था। प्रत्यूषा (25) ने शुक्रवार शाम चार से पांच बजे के बीच सुसाइड किया। दोपहर साढ़े बारह बजे के बाद से वे किसी के कॉन्टैक्ट में नहीं थीं। उनके एक पुराने ब्वॉयफ्रेंड के हवाले से यह भी पता चला है कि एक बार किसी बात पर बहस के बाद प्रत्यूषा ने चलती कार से कूदने की कोशिश की थी।