स्वदेशी क्रूज़ मिसाइल 'निर्भय' का परीक्षण चौथी बार हुआ फेल

नई दिल्ली ( 21 दिसंबर ): भारत की प्रथम स्वदेशी निर्माता परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम सबसोनिक क्रूज मिसाइल निर्भय का बुधवार को चांदीपुर परीक्षण रेंज (आइटीआर) से चौथी बार परीक्षण किया गया था जो एक बार फिर फेल हो गया।  इस मिसाइल की मारक क्षमता एक हजार किलोमीटर से अधिक है। इस मिसाइल को एकीकृत परीक्षण रेंज के लाॅन्च पैड तीन से एक मोबाइल लांचर के जरिए दागा गया। दुश्मन की नजरों से बचकर वार करने वाली इस मिसाइल की तुलना सटीक निशाने के लिए मशहूर अमेरिकी टोमाहॉक मिसाइल से की जाती है।

पिछले तीन साल में निर्भय मिसाइल सिस्टम के तीन टेस्ट किए गए थे। बुधवार को उड़ीसा के वीलर आइलैंड से चौथी बार इसका टेस्ट किया गया था जो फेल हो गया।

इस मिसाइल के सिस्टम का विकास रक्षा अनुसंधान एवं विकास संस्थान DRDO के अडवांस्ड सिस्टम लैबरेटरी ने किया है। 2010 में मंजूर इस प्रॉजेक्ट को तीन साल में पूरा होना था लेकिन भारत को अपने संसाधनों पर निर्भर रहकर इसका विकास करना पड़ा। 

भारत को मिसाइल टेक्नॉलजी पर कंट्रोल करनेवाली इंटरनैशनल रिजीम MTCR की जून में मेंबरशिप मिलने के बाद हुए चौथे टेस्ट को अहम माना जा रहा था।