यूरोपीय क्रैश टेस्ट में मारूति बलेनो को मिली 3-स्टार रेटिंग

कारों में पुख्ता पैसेंजर सुरक्षा को देखते हुए हर जगह सेफ्टी टेस्ट की अहमियत बढ़ रही है। ग्राहक भी अब फीचर्स से ज्यादा इस पर ध्यान दे रहे हैं कि मनपसंद कार कितनी सुरक्षित है। हाल ही में मारूति बलेनो को यूरोपीय एनसीएपी क्रैश टेस्ट में उतारा गया। इस टेस्ट में बलेनो को 3-स्टार रेटिंग मिली है।

बलेनो का आगे और साइड से क्रैश टेस्ट हुआ। रिपोर्ट के मुताबिक फ्रंट ऑफसेट क्रैश टेस्ट में कार को तो नुकसान पहुंचा लेकिन इसका पैसेंजर केबिन स्थिर रहा। वहीं फुल विर्थ रिजिड बैरियर क्रैश टेस्ट के दौरान ड्राइवर सुरक्षा रेटिंग अच्छी रही। हालांकि इस दौरान पाया गया कि दुर्घटना होने पर ड्राइवर के सीने पर चोट लगने का खतरा हो सकता है। सीने की सुरक्षा के मामले में इसे सिर्फ संतोषजनक अंक ही मिले। साइड बैरियर क्रैश टेस्ट के दौरान भी सुरक्षा के नतीजे अच्छे रहे लेकिन साइड पोल टेस्ट में पैसेंजर के सिर से जुड़ी सुरक्षा के मामले में अंक कट गए। इसकी एक वजह साइड कर्टन एयरबैग्स का सही से नहीं खुलना था। ज्यादा तेज़ क्रैश टेस्ट में सामने आया कि सही तरह से एयरबैग न खुल पाने की वजह से दुर्घटना की स्थिति में पैसेंजरों के सिर और सीने की सुरक्षा कमजोर हो जाती है। लिहाजा इस मामले में भी इसे सिर्फ संतोषजनक रेटिंग दी गई।

बलेनो के ज्यादा सेफ्टी पैक वाले वेरिएंट को भी टेस्ट किया गया था। इसमें रडार ब्रेक सपोर्ट फीचर दिया गया था। इस वजह से इस वेरिएंट को एक अतिरिक्त स्टार हासिल हुआ। हालांकि चिंता की बात बलेनो के रेग्युलर मॉडल को मिली 3-स्टार सेफ्टी रेटिंग है। यह मॉडल भारत में उपलब्ध मॉडल से काफी मिलता-जुलता है।

हाल ही में शेवरले की सेल सेडान का लैटिन अमेरिका में क्रैश टेस्ट हुआ था। सेल सेडान क्रैश में फेल हो गई और इसे जीरो रेटिंग हासिल हुई। वहीं टोयोटा की फॉर्च्यूनर और इनोवा क्रिस्टा को सेफ्टी के मामले में अलग-अलग एनसीएपी क्रैश टेस्ट में 5-स्टार और 4-स्टार रेटिंग हासिल हुई हैं।

[embed]https://www.youtube.com/watch?v=NxcFgY_S2Z8[/embed]

कारदेखो

यूरोपीय क्रैश टेस्ट में मारूति बलेनो को मिली 3-स्टार रेटिंग