ISIS के चुंगल से आजाद होकर लोग मना रहे हैं जश्न

मोसुल (21 अक्टूबर): मोसुल की निर्णायक लड़ाई का आज 5वां दिन है। इराकी फौजें आतंक के गढ़ से सिर्फ 10 किलोमीटर दूर हैं। 5 दिनों में मोसुल के 26 गांव बगदादी के आतंकलोक से आज़ाद हो चुके हैं। गांव वाले आज़ादी का जश्न मना रहे हैं और बगदादी 10 लाख लोगों को ढाल बनाकर जान बचाने की कोशिश कर रहा है।

बगदादी के कमांडरों ने उन्हें मोसुल के बाहरी इलाकों में जाकर रहने का फरमान सुनाया है, जिससे बेकसूर नागरिक इराकी और पेशमरगा सैनिकों के सामने आकर उनकी गोलियों की निशाना बन जाएं और मौका पाकर आतंकी वहां से निकल भागने में कामयाब हो जाएं।

इसीलिए बगदादी से 10 किलोमीटर दूर तक पहुंच चुकी ईराकी और कुर्दिश फौज धीरे धीरे आगे बढ़ रही है। निर्णायक लड़ाई के पांचवें दिन ईराकी आर्मी ने मोसुल पर हवाई हमला किया। भागने की कोशिश कर रहे आईएस के आतंकियों पर बम बरसाए गए। बगदादी की साजिश से मौसुल के 26 बाहरी गांव आज़ाद हो चुके हैं। इससे पहले तिकरित, रामादी और फजुल्लाह जैसे बड़े शहर बगदादी के कब्जे से निकल चुके हैं। जान बचने के बाद वहां के लोग काफी खुश हैं। जो हिस्सा आज़ाद होता जा रहा है, वहां फिर से रौनक दिखने लगी है।

10 किलोमीटर दूर, बगदादी की मौत... - मोसुल से 10 किमी दूर नारवा गांव पर इराकी आर्मी का कब्जा हो गया है। - पिछले 5 दिनों में मोसुल के 26 गांव बगदादी के आतंकियों से आज़ाद हो चुके हैं। - ईराकी सेनाएं सर्च ऑपरेशन चला रही हैं। - गांवों में जगह जगह आतंकियों के छिपने के बंकर मिल रहे हैं।

बगदादी ने बचने के लिए जगह-जगह खाईयां खुदवाकर उनमें तेल भर दिया है। घिरता देखकर बगदादी के आतंकी उनमें आग लगा रहे हैं। आतंकियों ने सड़कों और अहम ठिकानों पर बारूदी सुरंगों का जाल बिछा रखा है।