अयोध्या विवाद: "मुसलमानों को हिंदुओं को दे देनी चाहिए जमीन"


लखनऊ (13 अगस्त): शिया धर्मगुरु मौलान कल्बे सादिक ने राम जन्मभूमि विवाद को लेकर ऐसा बयान दिया है, जिसको लेकर उनकी देशभर में सराहना हो रही है। केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन भी सादिक के इस बयान से इतने खुश हुए की उन्होंने कहा है कि मौलाना साहब ने दिल जीत लिया।

शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे सादिक ने कहा कि अगर बाबरी मस्जिद पर फैसला मुस्लिमों के पक्ष में नहीं आता, तो उन्हें शांति से इसे स्वीकार करना चाहिए। वहीं, अगर फैसला मुस्लिमों के पक्ष में जाता है तो उन्हें खुशी-खुशी जमीन हिंदुओं को दे देनी चाहिए। मौलाना के इस बयान के बाद केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि भगवान राम ना हिंदू के हैं और न मुस्लिम के, वह भारत की जान हैं। मौलाना साहब (कल्बे सादिक) ने दिल जीत लिया।

आपको बता दें कि राम जन्मभूमि मामले पर 11 अगस्त को सात साल बाद सुनवाई हुई है। सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने सभी पक्षों से बात कर कहा था कि न्यायालत पहले दो मुख्य पक्षों की पहचान करेगा। कोर्ट ने ऐतिहासिक दस्तावेजों के अनुवाद के लिए तीन सप्ताह का समय भी दिया है। इससे पहले 8 अगस्त को शिया वक्फ बोर्ड ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा भी दायर किया था। इसमें कहा गया था कि अयोध्या में विवादित जगह पर राम मंदिर का निर्माण किया जाना चाहिए और मस्जिद का निर्माण पास के मुस्लिम बाहुल इलाके में होना चाहिए।