अयोध्या, गंगा और तिरंगे के लिए कोई भी सजा भुगतने को तैयार: उमा भारती


नई दिल्ली(19 अप्रैल): बाबरी विध्वंस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने आज अहम फैसला सुनाया है। कोर्ट ने कहा है कि आडवाणी, जोशी, उमा भारती समेत 13 पर आपराधिक साजिश का केस चलेगा। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने रोजाना सुनवाई के आदेश दिए हैं। इस मामले पर उमा भारती ने कहा कि वहां किसी तरह की आपराधिक साजिश नहीं थी, जो था खुल्लम खुल्ला था। अयोध्या, गंगा और तिरंगे पर कोई खेद नहीं है। हां मैं 6 दिसंबर को मौजूद थी, इसमें साजिश की कोई बात नहीं। अयोध्या आंदोलन में मेरी भागीदारी थी, मुझे कोई खेद नहीं। मैं इसके लिए कोई भी सजा भुगतने को तैयार हूं।


- इस्तीफे की बात पर उमा ने कहा कि अपराध अभी साबित नहीं हुए, इस्तीफे का सवाल ही नहीं। वकील कोर्ट में अपनी बहस करेंगे। मैं आज रात अयोध्या जा रही हूं। मैं रामलला, हनुमानगढ़ी में आभार जताने जाऊंगी कि मुझे इतना यश और सम्मान दिया। मैं वहां संकल्प करूंगी की राम मंदिर तो बनकर रहेगा। कोर्ट के बाहर हल की स्थिति बनेगी। मुझे अयोध्या में मंदिर बनते और कश्मीर में तिरंगा लहराते देखना है। मेरे जैसा व्यक्ति पद से चिपकने वाला नहीं है। गंगा साफ करके रहूंगी। मेरे लिए सम्मान जरूरी है।