बाबा रामदेव का चीन पर कड़ा प्रहार, बताया क्यों बौखलाया है चीन

नई दिल्ली ( 18 अगस्त ): योगगुरु स्वामी बाबा रामदेव ने चीन के लुधियाना से चीन पर करारा प्रहार किया। उन्होंने कहा कि भारत में विदेशी कंपनियां सालाना पचास लाख करोड़ का व्यापार करती हैं। इनमें सबसे ज्यादा शेयर चीन की कंपनियों का है। बीस लाख करोड़ का बड़ा बाजार हथियाने के बावजूद चीन आज भारत को डोकलाम में आंखें दिखा रहा है। बाबा रामदेव ने कहा कि हमारी इस कमी को हम सबको समझना चाहिए। 

रामदेव सराभा नगर में एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंचे थे। उन्होंने कहा कि जब तक प्रत्येक नागरिक विदेशी को त्यागकर स्वदेशी नहीं अपनाता तब तक ऐसी समस्याएं आती रहेंगी। इसके अलावा रामदेव ने सरकार को विदेशी सामान पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाने की भी सलाह दी।

रामदेव ने कहा कि पहले विदेशी शासकों को भगाया अब विदेशी कंपनियों को भगाना है। लंबे संघर्ष के बाद हमने देश को विदेशी शासकों से मुक्त करवाया। अब वक्त है विदेशी कंपनियों से देश की मुक्ति की। इसके लिए प्रत्येक नागरिक को स्वदेशी अपनाना चाहिए।

बाद में पत्रकारों से बातचीत में उन्होंने कहा कि चीन स्वार्थी देश है। उन्होंने कहा कि भारत में उसके सामान की घटती खपत से वह बुरी तरह तिलमिलाया हुआ है। सीमा विवाद तो बहाना है। चीन अपने आर्थिक हितों पर प्रतिकूल प्रभाव के चलते बुरी तरह बौखलाया हुआ है। भारत एक बहुत बड़ा बाजार है जहां चीनी आइटम की बिक्री से देश का मोटा पैसा चीन चला जा रहा था। अब उसके होश ठिकाने आने लगे हैं।