राजपथ पर योग दिवस के रिहर्सल में बोले बाबा रामदेव, 'किसी धर्म विशेष का नहीं है योग'

नई दिल्ली (19 जून): अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से दो दिन पहले दिल्ली स्थित राजपथ पर रविवार को रिहर्सल किया जा रहा है। जिसकी अगुवाई खुद योगगुरु बाबा रामदेव कर रहे हैं। रिहर्सल में रामदेव ने कहा कि योग किसी धर्म विशेष का नहीं है। इसे सभी धर्म के लोग कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रयास से योग को अंतर्राष्ट्रीय दिवस के तौर पर पहचान मिलने पर रामदेव ने उनकी तारीफ भी की। उन्होंने कहा, पीएम मोदी जी ने योग का मान पूरी दुनिया में बढ़ाया है। इस तरह सवा सौ करोड़ लोगों का मान बढ़ा है।

शनिवार को रामदेव ने दुबई में योगाभ्यास कराया था। वहां से लौटकर अपना अनुभव बताते हुए उन्होंने कहा, "मैं सुबह ही दुबई से आया हूं। वहां पर चालीस हजार लोगों ने योग किया, जो वहां के इतिहास में पहली बार हुआ है। बाबा ने बताया कि मैंने दुबई के लोगों से कहा कि आप ओम की जगह आमीन भी बोल सकते हैं, लेकिन लोगों ने ओम बोलना स्वीकार किया।" 

योगगुरु ने कहा, "सूर्य नमस्कार करने के लिए मैंने एक मुसलमान लड़के को बुलाया और सबसे कहा कि अगर ये करने से अगर ये लड़का मुसलमान से हिंदू बन जाये तो कोई न करना। पर सूर्य नमस्कार के बाद वो लड़का मुसलमान ही बना रहा तो योग करने से किसी का धर्म नहीं बदलता। मुसलमान मुसलमान ही रहता है और हिंदू भी हिंदू ही रहता है।"