News

बाबा रामदेव दे रहे हैं कारोबार में हिस्सेदार बनने का मौका, जानिए पूरा मामला

योग गुरु स्वामी रामदेव ने संकेत दिया है कि वे अपनी पतंजलि आयुर्वेद को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कर सकते हैं। इसका मतलब निवेशकों पंतजलि के कारोबार में हिस्सेदार बनने का मौका मिल सकता है। बता दें कि जब स्वामी रामदेव से पतंजलि आयुर्वेद को लिस्टेड कराने के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि वे एक महीने के अंदर इस बारे में 'अच्छी खबर' दे देंगे।

Image Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 दिसंबर): योग गुरु स्वामी रामदेव ने संकेत दिया है कि वे अपनी पतंजलि आयुर्वेद को शेयर बाजार में सूचीबद्ध कर सकते हैं। इसका मतलब निवेशकों पंतजलि के कारोबार में हिस्सेदार बनने का मौका मिल सकता है। बता दें कि जब स्वामी रामदेव से पतंजलि आयुर्वेद को लिस्टेड कराने के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि वे एक महीने के अंदर इस बारे में 'अच्छी खबर' दे देंगे। गौरतलब है कि पतंजलि की शुरुआत एक आयुर्वेदिक दवा के तौर पर हुई थी और आज पूरे देश भर में पतंजलि का सिक्का चल रहा है इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता है। 

कंपनी ने अगले तीन से पांच वर्षों के दौरान 20,000 करोड़ रुपये का वार्षिक टर्नओवर हासिल करने का लक्ष्य रखा है. इस समय पतंजलि का सालाना टर्नओवर करीब 10,000 करोड़ रुपये है। हालांकि पिछले साल जीएसटी और डिस्ट्रीब्यूशन नेटवर्क में कमजोरी के चलते कंपनी की बिक्री में थोड़ी गिरावट देखने को मिली।

मीडिया रिपोर्ट्स के हवाले से आ रही खबरों के मुताबिक बाबा रामदेव से एक कार्यक्रम के अवसर पर पूछा गया कि क्या पतंजलि आयुर्वेद अपना आईपीओ ला सकती है, तो रामदेव ने कहा, 'इस बारे में एक महीने के अंदर अच्छी खबर मिलेगी। इससे अंदाज लगाया जा रहा है कि पंतजलि अपना आईपीओ ला सकती है।

इस मौके पर रामदेव ने कहा कि यदि आवश्यक सुविधाएं दी जाएं तो भारत मैन्युफैक्चरिंग हब बन सकता है। कई क्षेत्रों में उद्योगों के संकट के बारे में उन्होंने कहा कि बैंकों को उनकी मदद करने के लिए आगे आना चाहिए। हालांकि उन्होंने कहा कि बैंकों को ईमानदारी कारोबारियों की मदद करनी चाहिए, न कि विजय माल्या जैसे लोगों की।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top