राम मंदिर के लिए श्रीश्री के साथ मिलकर अलग बोर्ड बनाएंगे मौलाना नदवी, 1 मार्च को ऐलान

नई दिल्ली (26 फरवरी): राम मंदिर के निर्माण पर आम सहमति बनाने के लिए मौलाना सलमान नदवी अलग बोर्ड बनाएंगे। सलमान नदवी एक मार्च को श्री श्री रविशंकर के साथ मिलकर लखनऊ में इसका ऐलान करेंगें। आपको बता दें कि पिछले दिनों इस मसले को लेकर आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने मौलाना नदवी को बोर्ड से निष्कासित कर दिया था।

श्रीश्री रविशंकर की पहल पर बन रहे इस बोर्ड का नाम 'मानव कल्याण बोर्ड' होगा। यह बोर्ड आल इंडिया पर्सनल मुस्लिम बोर्ड के सामानांतर काम करेगा। इस बोर्ड का मुख्य उद्देश्य दो समुदायों के बीच धार्मिक स्थलों को लेकर होने वाले किसी भी विवाद को सुलझाने में अहम भूमिका होगी। बताया जा रहा है कि यह बोर्ड आल इंडिया पर्सनल मुस्लिम बोर्ड के सामानांतर काम करेगा। इतना ही नहीं अयोध्या विवाद को आउट ऑफ़ कोर्ट सेटलमेंट कराने में भी इस बोर्ड की अहम् भूमिका होगी। मौलान नदवी ने प्रेस रिलीज जारी कर अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद के लिए तीन सूत्रीय फ़ॉर्मूला भी दिया है।

राम मंदिर के लिए मौलाना नदवी का फॉर्मूला...

- अयोध्या में राममंदिर बने और मस्जिद इस्लाम के लिए बाबरी मस्जिद से ज्यादा जमीन मिले, अयोध्या में इस्लामिक यूनिवर्सिटी के लिए भी जमीन आवंटित हो - बाबरी मस्जिद ढहाने वालों को दण्डित किया जाए - भविष्य में किसी मस्जिद, मदरसे, दरगाह, कब्रिस्तान आदि से छेड़छाड़ न की जाए

गौरतलब है कि इससे पहले मौलाना नदवी की सुलह समझौते की कोशिशों को मुस्लिम पसर्नल लॉ बोर्ड ने खारिज करते हुए उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया था। AIMIM के असदुद्दीन ओवैसी ने साफ ऐलान किया था कि मुस्लिम पक्ष मस्जिद की जमीन से अपना दावा नहीं छोड़ेगा। इसके बाद अयोध्या सद्भावना समन्वय समिति के अध्यक्ष अमरनाथ मिश्रा ने मौलाना नदवी पर विवाद सुलझाने के लिए 5 हजार करोड़ रिश्वत लेने का भी आरोप लगाया था।