'मेरे बेटे की दर्दनाक मौत के एक साल बाद भी कुछ नहीं बदला'

नई दिल्ली (5 सितंबर): तुर्की के समुद्र तट से आयलन कुर्दी नाम के रिफ्यूजी बच्चे का शव मिलने की दर्दनाक घटना को पूरा एक साल हो गया है। इस घटना की एक तस्वीर पूरी दुनिया में वायरल हुई, जिसपर उमड़ा दर्द आज भी लोगों के जहन में है। लेकिन इस दर्द को सबसे ज्यादा अपने भीतर संजोये जी रहे बच्चे के पिता का कहना है कि इस एक साल में कुछ खास नहीं बदला।

- आयलन की मौत उसके परिवार के सीरिया को छोड़कर भागने के दौरान नौका के समुद्र में डूबने से हो गई थी। आयलन के सीरियाई पिता अब इराक में रहते हैं। उन्होंने उस हादसे में अपनी पत्नी के साथ दो बच्चों को खो दिया। जिनमें 3 साल का आयलन और  5 साल का गालिप शामिल था।  - एक साल बाद कुर्दी से जर्मनी के बाइल्ड न्यूजपेपर ने बात की। जिनसे उन्होंने कहा कि वह खुश हैं कि उनके बेटे की तस्वीर को प्रकाशित किया गया। जिससे लोगों को यह साफ पता चल सके कि आखिर हो क्या रहा है? लेकिन वह दुखी हैं कि तब से अब तक रिफ्यूजियों के लिए कुछ खास नहीं किया गया।