Blog single photo

त्योहारों के सीजन के बाद भी नहीं बढ़ी कारों की सेल्स,13 फीसदी घटी बिक्री

ऑटो सेक्टर पर से संकट का दौर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। अक्टूबर त्योहारों का महीना होने के बावजूद उम्मीद के मुताबिक गाड़ियों की बिक्री रफ्तार नहीं पकड़ पाई है

Image Source Google

मनीष कुमार, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(11 नवंबर) : ऑटो सेक्टर पर से संकट का दौर खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। अक्टूबर त्योहारों का महीना होने के बावजूद उम्मीद के मुताबिक गाड़ियों की बिक्री रफ्तार नहीं पकड़ पाई है, जबकि अक्टूबर से सेल्स बढ़ाने के लिए ऑटो कंपनियां भारी डिस्काउंट दे रही थी तो बैंकों ने आसानी से कर्ज मुहैया कराने के लिए लोन मेला तक लगाया था। ऑटोमोबाइल सेक्टर की संस्था सियाम के मुताबिक अक्टूबर में भी गाड़ियों के उत्पादन और सेल्स के आंकड़ों में गिरावट का सिलसिला जारी रहा। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटो मैनुफैक्चरर्स द्वारा अक्टूबर  महीने के लिये प्रोडक्शन और सेल्स के जारी किये गये आंकड़ों के मुताबिक अक्टूबर महीने में पैंसेंजर व्हीकल सेगमेंट में पैसंजर कारों की बिक्री में 6.34 फीसदी की गिरावट आई है।  

ऑटोमोबाइल सेक्टर पर संकट बरकरार

सोसाइटी ऑफ ऑटो मैनुफैक्चरर्स यानी सियाम द्वारा जारी किये आंकड़ों के मुताबिक लगातार 12 वें महीने ऑटोमोबाइल सेक्टर पर संकट जारी है। अक्टूबर 2019 महीने में पैसेंजर व्हीकल के प्रोडक्शन में 21.14 % की गिरावट आई है। अक्टूबर में कुल 2,69,186  पैसेंजर व्हीकल का प्रोडक्शन हुआ, जबकि अक्टूबर  2018 में 3,41,363 पैसेंजर व्हीकल का उत्पादन हुआ था। पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में कारों के सेल्स में 6.34 %  की गिरावट दर्ज की गई। वहीं अक्टूबर में पैसेंजर गाड़ियों के सेल्स में 0.28 % की बढ़त दर्ज की गई। वो इसलिये क्योंकि अक्टूबर महीने में नए लॉन्च के चलते यूटिलिटी व्हीकल्स के सेल्स में 22 फीसदी की बढ़ोतरी आई है।

अक्टूबर 2019 में कुल 2,85,027 पैसेंजर गाड़ियों की बिक्री हुई, जबकि 2018 अक्टूबर में 2,84,223 गाड़ियों की बिक्री हुई थी।  टू व्हीलर का प्रोडक्शन जहाँ 26.57%  में घटा है वहीं सेल्स में भी 14.43% की गिरावट आई है। इस पूरे वित्त वर्ष की बात की जाए तो अप्रैल से अक्टूबर 2019 तक में गाड़ियों के उत्पादन में कंपनियों की तरफ से 15.25 फीसदी की गिरावट आई है। जबकि बिक्री में 16.5 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है।

सबसे बुरा असर कमर्शिल गाड़ियों के उत्पादन में दिखा। अक्टूबर महीने में इनमें 72.42 फीसदी की कटौती हुई, जिसमें जिसमें गुड्स करियर के प्रोडक्शन में 76.74 फीसदी की गिरावट देखने को मिली। वहीं इन गाड़ियों की बिक्री में 50 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दिखी। इनमें ट्रकों की बिक्री 55 फीसदी की कमी दिखी है।

बिक्री में इस महीने भी गिरावट रही है लेकिन पिछले लगातार कई महीनों के मुकाबले उसकी रफ्तार कुछ कम थी। इसके पीछे बड़ी वहज ऑटो मोबाइल बाजार में यूटिलिटी व्हीकल और गाड़ियों के नए मॉडल की भरमार बताई जा रही है।  

सियाम के प्रसिडेंट राजन वढेरा ने कहा कि यूटिलिटी व्हीकल और नई गाड़िंयों के लॉन्च के चलते बिक्री में सुधार देखने को मिला है। उन्होंने ये भी उम्मीद जताई है कि आने वाले दिनों में कोरोबार में सुधार दिखने की उम्मीद है।

 

Tags :

NEXT STORY
Top