दिल्ली-मुंबई में ऑटो और टैक्सी से चलने वालों के लिए बड़ी खबर

नई दिल्ली (25 जुलाई): देश के दो सबसे बड़े नगरवासियों को मंगलवार को भारी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। दरअसल, दिल्ली और मुंबई में टैक्सी एवं ऑटोरिक्शा यूनियन ने हड़ताल की चेतावनी दी है। ऐसे में अगर इनकी मांगे पूरी नहीं की गई तो लोगों की परेशानी बढ़ सकती है। 

क्या है दिल्ली में टैक्सी एवं ऑटोरिक्शा यूनियन की मांग दिल्ली में टैक्सी एवं ऑटोरिक्शा यूनियन ने शुक्रवार को चेतावनी दी कि शहर में ऐप आधारित कैब सेवाओं को प्रतिबंधित करने की उनकी मांग यदि पूरी नहीं की गई तो वे 26 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। यूनियन के महासचिव राजेंद्र सोनी ने कहा 18 परिवहन यूनियनों ने हड़ताल में शामिल होने पर सहमति जताई है। उन्होंने कहा, 'ऐप आधारित निजी टैक्सी सेवाएं नियमों का उल्लंघन करती हैं और हमारे व्यवसाय को प्रभावित कर रही हैं। तत्कालीन परिवहन मंत्री गोपाल राय ने ऐप आधारित टैक्सी सेवाओं पर लगाम लगाने का 17 अप्रैल को लिखित आश्वासन दिया था, लेकिन सरकार ने अभी तक कुछ भी नहीं किया है।'

क्या है मुंबई में ट्रैक्सी चालकों की परेशानी मुंबई की समस्या भी दिल्ली जैसी ही है। स्वाभिमान टैक्सी एवं रिक्शा यूनियन के अध्यक्ष केके तिवारी के अनुसार सरकार जब तक उनकी मांगों को नहीं मान लेती, ट्रैक्सी चालक और आटोरिक्शा का एक तबका 26 जुलाई से सड़कों पर नहीं उतरेगा। टैक्सी यूनियन का दावा है कि उबर एवं ओला जैसे कैब परिचालक अनधिकृत हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘हम यह भी चाहते हैं कि सरकार उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू करे जिन्होंने कानून का पालन नहीं किया है। हम तब तक हड़ताल पर रहेंगे जब तक कि सरकार हमारी मांग मान नहीं ले। कैब परिचालकों की वजह से हमारे चालकों की आय प्रभावित हो रही है।’’