Blog single photo

मंकीगेट विवाद: भज्जी का साइमंड्स को जवाब, कहा- 'बड़े हो जाओ'

मंकीगेट मामले पर साइमंड्स ने किया बड़ा खुलासा, कहा माफी मांगते हुए रोने लगे थे भज्‍जी: साइमंड्स बोले

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 दिसंबर): ऑस्ट्रेलिया के पूर्व आलराउंडर एंड्रयू साइमंड्स ने कहा है कि भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह 'मंकीगेट' प्रकरण के बाद इस मामले को सुलझाने के दौरान 'रोने लगे' थे। वर्ष 2008 में सिडनी टेस्ट के दौरान यह घटना हुई थी जिसमें हरभजन पर साइमंड्स को 'बंदर' कहने का आरोप लगा था। इस घटना के एक दशक बाद साइमंड्स ने कहा कि तीन साल बाद उन्होंने इस मामले को खत्म कर दिया था। इन दोनों ने इंडियन प्रीमियर लीग में मुंबई की ओर से खेलते हुए इस विवाद को खत्म किया।

 साइमंड्स ने इस विवाद के बारे में 'फॉक्स स्पोर्ट्स' से कहा, 'वह रोने लगा था और मैंने देखा कि इसे लेकर उस पर काफी बोझ है और वह इसे खत्म करना चाहता है। हमने हाथ मिलाए और मैं उससे गले मिला और कहा 'दोस्त, सब कुछ सही है। यह मामला खत्म'।' उस समय इस तरह की टिप्पणी से इनकार करने वाले हरभजन पर तीन मैचों का निलंबन लगाया गया था। भारत ने हालांकि इसका विरोध किया था जिसके बाद प्रतिबंध हटा दिया गया। उस समय भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट रिश्ते सबसे खराब दौर पर पहुंच गए थे।

इस बीच अब इस पर भज्जी ने ट्वीट करते हुए कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने लिखा- मेरे ख्याल से साइमंड्स अच्छे क्रिकेटर थे, लेकिन अब वह अच्छे फिक्शन राइटर (कथा लेखक) बन गए हैं। उन्होंने उस वक्त (2008) भी स्टोरी बेची थी और वह अब (2018) भी स्टोरी बेच रहे हैं। दोस्त, पिछले 10 वर्षों में दुनिया आगे निकल चुकी है। यह समय है कि तुम भी बड़े हो जाओ।

हरभजन सिंह का आया जवाब 

इस पर भारतीय दिग्गज स्पिनर ने अपने पहले ट्वीट में लिखा- कब हुआ था यह...? रोने लगा...? किसके लिए? (WHEN DID THAT HAPPEN ??? BROKE DOWN ???? WHAT FOR ???)  

यह है पूरा मामला 

वर्ष 2008 में सिडनी टेस्ट के दौरान यह घटना हुई थी, जिसमें हरभजन पर साइमंड्स को ‘बंदर’ कहने का आरोप लगा था। इस घटना के एक दशक बाद साइमंड्स ने कहा कि तीन साल बाद उन्होंने इस मामले को खत्म कर दिया था। इन दोनों ने इंडियन प्रीमियर लीग में मुंबई की ओर से खेलते हुए इस विवाद को खत्म किया। उस समय इस तरह की टिप्पणी से इनकार करने वाले हरभजन पर तीन मैचों का निलंबन लगाया गया था। भारत ने हालांकि इसका विरोध किया था, जिसके बाद प्रतिबंध हटा दिया गया। उस समय भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच क्रिकेट रिश्ते सबसे खराब दौर पर पहुंच गए थे।  

Tags :

NEXT STORY
Top