सांप्रदायिक हिंसा के बाद औरंगाबाद में कर्फ्यू, देखते ही गोली मारने के आदेश

नई दिल्ली (27 मार्च): बिहार के औरंगाबाद में रामनवमी के जुलूस के दौरान भड़की हिंसा को काबू में करने के लिए प्रशासन ने कर्फ्यू लगाने का आदेश दिया है। वहां तैनात सुरक्षा बलों को दंगा फैलाने वालों को देखते ही गोली मारने का आदेश दिया गया है।

कैसे भड़की सांप्रदायिक हिंसा?

बिहार के औरंगाबाद में रामनवमी के जुलूस के दौरान दो संप्रदायों के बीच भारी झड़प हो गई। इस दौरान एक संप्रदाय के पत्‍थरबाजी करने के बाद दूसरे संप्रदाय के लोगों ने दुकानों में आग लगा दी। ये हालात रामनवमी के जुलूस के दौरान तब पैदा हुए जब जय श्री राम के नारों के साथ शोभायात्रा निकल रही थी।

अब इस पूरे मामले पर बिहार की राजनीति तेज हो गई है। सरकार विपक्ष पर दंगा फैलाने का आरोप लगा रही है बदले में विपक्ष का कहना है की बिहार की नीतीश कुमार की सरकार नही बल्कि आर एस एस और भाजपा का है जो दंगा फैलाने का काम कर रही है। कानून व्यवस्था खत्म हो गई है।