26/11 केस- हेडली ने बताया, 'लश्कर ने रची थी बाल ठाकरे की हत्या की साज़िश'

 

मुंबई (24 मार्च) : 26/11 हमला मामले में पाकिस्तानी-अमेरिकी आतंकी डेविड कोलमैन हेडली ने क्रॉस एग्जामिनेशन में खुलासा किया है कि लश्कर-ए-तैयबा ने शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे की हत्या की कोशि‍श की थी। लेकिन इससे पहले कि हमला किया जाता पुलिस ने संबंधित आतंकी को गिरफ्तार कर लिया था। हेडली से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिरह गुरुवार को शुरू हो गई।

हेडली ने कहा, 'मुझे इस बारे में सूत्रों से जानकारी मिली थी। हां, लेकिन यह सही है‍ कि लश्कर ने बाल ठाकरे की हत्या की कोशि‍श की थी. यह कोशि‍श असफल रही, क्योंकि पुलिस ने वारदात को अंजाम देने जा रहे आतंकी को गिरफ्तार कर लिया था। हेडली ने यह भी बताया कि पुलिस ने जिसे गिरफ्तार किया था, वह बाद में कस्टडी से भागने में सफल रहा था।

जिरह के दौरान हेडली ने कबूल किया है कि उसने अपने सुपरवाइजर साजिद मीर के कहने पर दो बार सेना भवन की रेकी की थी। मुंबई के एक कोर्ट में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बुधवार को भी हेडली से क्रॉस एग्जामिनेशन किया गया था। स्पेशल पब्लिक प्रॉसिक्यूटर उज्ज्वल निकम ने बताया कि यह जिरह चार दिन चलेगी। इस दौरान हमले के मुख्य साजिशकर्ता अबु जुंदाल के वकील अब्दुल वहाब खान हेडली से सवाल करेंगे। बुधवार को कोर्ट में हेडली ने अपनी पत्नी शाजिया गिलानी से जुड़े सवाल का जवाब देने से इनकार कर दिया।

हेडली ने पूछताछ के दौरान बताया कि उसने कभी भी आतंकी संगठन लश्कर-ए-तोएबा से पैसे नहीं लिए, बल्कि उसने खुद 60 से 70 लाख रुपये लश्कर की विभिन्न गतिविधियों में दिए थे। उसने बताया कि साल 2004 के आसपास अरब देशों में उसने कुछ दुकानें खरीदी थीं और पाकिस्तान में भी कुछ पैसों का निवेश किया था।