खली पर रेसलरों ने किया जमकर प्रहार, अस्पताल में भर्ती

नई दिल्ली(25 फरवरी): इंड‌ियन रेसलिंग के पहले महामुकाबले में भारत के ग्रेट खली घायल हो गए। खली पर दो रेसलरों ने जमकर प्रहार किया और उनको लहूलुहान कर दिया। इसके बाद  दर्शक बेकाबू हो गए।

उन्हें लहूलुहान हालत में हल्द्वानी के बृजलाल अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उत्तराखंड के हल्द्वानी स्थित गौलापार स्टेडियम में डब्ल्यूडब्ल्यूई के भारतीय वर्जन का मेगा शो बुधवार को शुरू हुआ। मेगा शो के तीसरे मुकाबले में भारत के हरमन सिंह ने मैक्सिको के हर्नानडेज के साथ फाइट की। इस दौरान हर बार हरमन सिंह हर्नानडेज पर भारी पड़ते रहे।

अंत में हरमन ने हर्नानडेज को उठाकर रिंग से बाहर फेंक दिया। हर्नानडेज रिंग के बाहर गिरने के बाद फिर दोबारा लड़ने के लिए उठ नहीं पाए। रेफरी ने हरमन को विजयी घोषित कर दिया। रिंग में जब हरमन अपनी जीत का जश्न मना रहे थे, इसी बीच हर्नानडेज के साथी अमेरिका के माइक नॉक्स और कनाडा के ब्रॉडी स्टील रिंग में घुस आए। उन्होंने जीत का जश्न मना रहे हरमन को पीट-पीटकर अधमरा कर दिया।

तीसरा मुकाबला करीब 25 मिनट तक चला। हरमन को पीटने के बाद ब्रॉडी स्टील ने माइक हाथ में लेकर खली को चुनौती दी कि ‘मैं आ गया हूं। कहां है खली। हिम्मत है तो आकर मुझसे लड़।खली से लड़ने के लिए माइक नॉक्स, ब्रॉडी स्टील और अपोलो भी मैदान में उतर गए। शुरुआत में खली तीनों पर भारी पड़ रहे थे। इसी बीच, ब्रॉडी स्टील कहीं से एक कुर्सी लेकर रिंग पर उतर गए और खली पर प्रहार कर दिया।बाद में खली ने उनसे कुर्सी छीनकर ब्रॉडी स्टील और माइक नॉक्स पर प्रहार किया जिस पर रेफरी ब्रायन किंग ने खली को एलिमिनेट कर दिया, जिसका खली ने विरोध किया।

खली रेफरी से बात कर रहे थे कि ब्रॉडी स्टील, माइक नॉक्स और अपोलो ने खली पर ताबड़तोड़ कुर्सी और लात से प्रहार कर दिया।डेथ वारंट साइन कर चुके खली और ब्रॉडी स्टील की ललकार सुनकर रिंग में उत पड़े। ब्रॉडी को माइक नॉक्स और अपोलो का भी साथ मिला।

तीनों ने मिलकर रिंग में खली पर कुर्सी और लात से सिर, सीने, गर्दन और पीठ पर ताबड़तोड़ प्रहार किए।खली रिंग में चित्त हो गए, लेकिन ब्रॉडी स्टील, माइक नॉक्स और अपोलो ने खली पर प्रहार जारी रखा। इस पर खली की एकेडमी के रेसलर दौड़कर मौके पर पहुंचे।खली के सिर, सीने, गर्दन, पीठ और पर चोट आई है। रिंग में ही खली के सिर से खून बहने लगा था।लहूलुहान खली को रिंग से स्ट्रेचर में ग्रीन रूम ले जाया गया, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद उन्हें बृजलाल अस्पताल ले जाया गया। इस फाइट पर रेफरी ने कोई फैसला नहीं दिया है। इस फाइट का फैसला देहरादून में 28 फरवरी को होगा।