इस ट्रिक से निकालता था ATM से पैसे, नहीं कटता था बैलेंस

राजेश कुमार शर्मा, नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस ने ऐसे शातिर चीटर को गिरफ्तार किया है जो खुद के अकाउंट के एटीएम से नगद निकालता था, फिर ट्रांजेक्शन कैंसिल कराकर लाखों की चीटिंग की वारदात को अंजाम देता था। पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से आरोपी को गिरफ्तार कर 21 लाख की चीटिंग के मामले का खुलासा किया है और कई एटीएम भी बरामद किए हैं, जिसकी मदद से यह चीटिंग करता था।


शख्स दिनेश कुमार लाल ने एमबीए की डिग्री हासिल की हुई है और एक प्राइवेट कंपनी में बतौर ऑडिटर काम करता है। इसका काम बैंक एटीएम में कैश जमा कराना था, लेकिन इस धंधे में रहकर दिनेश ने यूट्यूब की मदद से एटीएम में हेराफेरी करने का ऐसा शातिर तरीका खोज निकाला, जिसको जान कर पुलिस के भी होश उड़ गए।


जाने कैसे अपने एटीएम से कैश निकाल कर बैंक को चूना लगाता था...

दिनेश अपने अकाउंट के एटीएम से 10 हजार कैश निकालता था और उसी दौरान ट्रिक से कैश के ऊपरी और निचले नोट को छोड़कर रूपये निकाल लेता था। उस समय तो कैश इसके अकाउंट से डेबिट हो जाता, लेकिनकरीब 20 से 25 मिनट बाद ट्रांजेक्शन कैंसल होकर निकाले गए रुपये दिनेश के अकाउंट में वापस आ जाते थे।


जब तक बैंक वालों को इस चीटिंग का पता चलता 21 लाख रुपये का चूना दिनेश लगा चुका था और सबसे ज्यादा राजौरी गार्डन के एटीएम से पैसे निकले थे। पुलिस में मामला दर्ज होने के बाद दिनेश की खोजबीन शुरू हुई और राजौरी गार्डन के एटीएम में लगे सीसीटीवी की मदद से दिनेश को घर दबोचा गया। इस चीटिंग के लिए इसने अलग-अलग बैंकों के 10 क्रेडिट-डेबिट कार्ड का इस्तेमाल किया। चीटिंग करने के लिए दिनेश ने अपना, पत्नी और साला का कार्ड बनवाया था। चीटिंग के रूपये से सागरपुर में नया मकान ख़रीदा, जिसे पुलिस अब जब्त करेगी।