एटीएम के जरिए बैंक अकाउंट को आधार नंबर से जोड़ा जाएगा

नई दिल्ली (1 सितंबर): लोगों के बैंक खातों से उनका आधार नंबर जोड़ने की अपील करने के लिए बैंक अब ऑटोमेटेड टेलर मशीनों (एटीएम), इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल्स और मोबाइल बैंकिंग ऐप्लिकेशंस का इस्तेमाल करेंगे। यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया का मानना है कि लगभग हर खाताधारक एटीएम का यूज करता है और उसके जरिए वह आधार नंबर को आसानी से कनेक्ट कर सकता है।

आधार ऐक्ट के कानून बन जाने के बाद से सरकार इस दिशा में ज्यादा जोर दे रही है। बैंकों को यह सुनिश्चित करने की सलाह दी गई है कि एटीएम मेन्यू, इंटरनेट बैंकिंग पोर्टल्स और मोबाइल बैंकिंग ऐप्लिकेशंस में एक सेल्फ-हेल्प ऑप्शन दिया जाए ताकि लोग आधार नंबर को अपने बैंक खाते से आसानी से जोड़ सकें।

यूआईडीएआई का मानना है कि देश में करीब 1.5 लाख एटीएम होने और उनमें ज्यादातर खाताधारकों के जाने को देखते हुए आधार से बैंक खातों को जोड़ने में एटीएम बहुत उपयोगी विकल्प हो सकता है। अगर रोज हर एटीएम से 10 अनुरोध आने का ही अनुमान लगाया जाए तो भी एक महीने में 4.5 करोड़ लोग अपने आधार नंबर को बैंक खाते से कनेक्ट करने का अनुरोध करेंगे। यह बात यूआईडीएआई ने सरकार और विभिन्न बैंकों के सामने रखी है। बैंकों से यह भी कहा जा रहा है कि वे खाताधारकों से अपील करें कि जब वे बैंक ब्रांच में आएं तो एक फॉर्म भरकर आधार नंबर की जानकारी दें।

अभी लगभग 30 करोड़ बैंक खातों को आधार नंबर से जोड़ा जा चुका है, लेकिन करीब-करीब इतने ही अनलिंक्ड भी हैं। इनमें जनधन योजना के तहत अब तक खोले गए 23.93 करोड़ खातों में से 12 करोड़ खाते भी शामिल हैं।