एटीएम में सेंधः प्रधानमंत्री मोदी को लगा जोर का झटका

नई दिल्ली (21 नवंबर): भारत की कैशलेस इकॉमनी बनने की उम्मीदों को एक बड़ा झटका लगा है। करीब 32 लाख डेबिट कार्ड की सुरक्षा में सेंध लगने की आशंका के खुलासे को मोदी सरकार के लिए एक बड़ा झटका माना जा रहा है।

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के मुताबिक पीएम ने मई में 'मन की बात' के दौरान कैशलेस पेमेंट को बढ़ावा देने की बात कही थी। पीएम का कहना था कि इससे भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगी साथ ही पैसे के फ्लो को ट्रैक भी किया जा सकेगा। पर डेबिट कार्ड से जुड़ा इतना बड़ा फ्रॉड सामने आने के बाद अब कैशलेस पेमेंट सवालों के घेरे में है।

अबतक 19 बैकों ने फ्रॉड के जरिए पैसा निकालने की बात मानी है। बैंकों की शिकायत के मुताबिक भारत के एटीएम कार्डों का इस्तेमाल चीन व अमेरिका जैसे देशों में किया गया है, जबकि उनके ग्राहक भारत में ही मौजूद थे। नैशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया ने गुरुवार को करीब 1.3 करोड़ रुपये के घोटाले की आशंका जताई है।