राजस्थान में अबतक नहीं तय हो पाया सीएम का नाम, गहलोत और पायलट पर सस्पेंस बरकरार

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (14 दिसंबर): मध्यप्रदेश का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा इसका फैसला हो चुका है। कांग्रेस अलाकमान ने मध्यप्रदेश की कमान कमलनाथ के हाथों सौंपने का फैसला किया है। वहीं राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर पेंच फंसा हुआ है। राजस्थान के सीएम पर गुरुवार को भी फैसला नहीं हो पाया। सीएम पद के लेकर जयपुर से लेकर दिल्ली तक बैठकों का दौर चला लेकिन नाम को लेकर फाइनल फैसला नहीं हो पाया। माना जा रहा है कि आज किसी भी वक्त सीएम के नाम का ऐलान हो सकता है।

कांग्रेस ने बीजेपी से राजस्थान जीत तो लिया लेकिन पिछले 48 से लग रहा है कि सीएम चुनने की चुनौती चुनाव से कम नहीं है। सुबह सुबह दिल्ली के धुंधली सुबह में जयपुर से अशोक गहलोत और सचिन पायलट पहुंचे। राष्ष्ट्र अध्य राहुल गांधी से मुलाकात की। गेंद अब आलाकमान के पाले में है। राहुल गांधी के घर से मुलाकात की बात बाहर तो नहीं आई लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर आई की सीएम और डिप्टी सीएम के फॉर्मूले का सुझाव दिया गया जो साचिन पायलट को रास नहीं आया। यानि को पायलट बनने को तैयार नहीं हुए सचिन।

सचिन के समर्थकों ने राजस्थान में जमकर हंगामा किया। करौली टोंक और अजमेर में पायलट समर्थरों ने जमकरर हंगामा किया और हाइवे को जाम कर दिया ये लोग सचिन पायलट को युवा नेता होने के नाते सीएम बनाने की मांग कर रहे थे। उधर दिल्ली में भी सचिन के समर्थक पहुंच गए और राहल गांधी के घर के बाहर सचिन को सीएम बनाने के नारे लगाए। वहीं सचिन पाय़लट ने ट्वीट करके सभी समर्थकों से धैर्य बनाए रखने की अपील की। उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा कि सभी कार्यकर्ताओं से शांति एवं अनुशासन बनाए रखने का आग्रह करता हूं। मुझे पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर पूरा विश्वास है। माननीय राहुल गांधी जी एवं श्रीमती सोनिया गांधी जी जो फैसला लेंगे उसका हम स्वागत करेंगे। हम सभी कांग्रेस के समर्पित, पार्टी की गरिमा बनाये रखना हम सभी की ज़िम्मेदारी है।

गहलोत के समर्थक भी गोलबाजी से पीछे नहीं रहे। उन्होंने ने भी जयपुर एयरपोर्ट पर नारेबाज़ी में कोई कसर नहीं छोड़ी। गहलोत के समर्थक अनुभव का हवाले देकर अड़े दिखाई दिए। वहीं गहलोत के कुछ समर्थकों ने कांग्रेस दफ्तर के बाहर गहलोत को मुख्यमंत्री बनने के बधाई वाले पोस्टर भी लगा दिए। उधर राहुल गांधी ने गहलोट और पायलट से अलग अलग-अलग मुलाकात की। गहलोट तो जयपुर जाने के लिए एयरपोर्ट तक पहुंच गए थे लेकिन गहलोत को वापस बुला लिया गया और राहुल ने फिर से उनसे मुलाकात की। गहलोत के समर्थन में कई निर्दलीय विधायक भी आ गए है जो गहलोत को सीएम बनने पर समर्थन की बात कह रहे हैं। वो गहलोत को अनुभवी नेता बता रहे है। सूत्रों के मुताबिक सचिन पायलट जहां राहुल गांधी की पसंद बताए जा रहे हैं, वहीं सोनिया चाहती हैं गहलोत मुख्यमंत्री बनें।

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...