कमलनाथ को एमपी की कमान, आज राज्यपाल से करेंगे मुलाकात

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (14 दिसंबर): कमल नाथ मध्य प्रदेश के अगले मुख्यमंत्री होगें। कमलनाथ आज सुबह साढ़े दस बजे राज्यपाल आनंदी बेन पटेल से मुलाकात करेंगे।  जिसके बाद मध्य प्रदेश में शपथ ग्रहण कार्यक्रम की तस्वीर साफ हो सकती है। कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद कल रात भोपाल में कमलनाथ को नेता चुने जाने का ऐलान किया गया। जिसके बाद उनका मुख्यमंत्री बनने का रास्ता साफ हो गया।

भोपाल के कांग्रेस दफ्तर में गुरुवार रात 11 बजे के करीब इस ऐलान के साथ ही पिछले दो दिन से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के नाम को लेकर जारी सस्पेंस खत्म हो गया। विधायक दल की बैठक में नेता चुने जाने के साथ ही कमलनाथ का मुख्यमंत्री बनना तय हो गया। इसके बाद कमलनाथ ने इस पद को मील का पत्थर करार देते हुए अपनी भावनाएं जाहिर कीं। उन्होंने कहा कि यह पद मेरे लिए मील का पत्थर। 13 दिसंबर को इंदिरा जी छिन्दवाड़ा आई थीं। मुझे जनता को सौंपा था। ज्योतिरादित्य का धन्यवाद जो उन्होंने मेरा समर्थन किया। इनके पिताजी के साथ मैंने काम किया। इसलिए इनके समर्थन पर खुशी हुई। अगला समय चुनौती का। हम सब मिलकर हमारा वचन पत्र पूरा करेंगे। मुझे पद की कोई भूख नहीं। मेरी कोई मांग नहीं थी। मेने अपना पूरा जीवन बिना किसी पद की भूख के कांग्रेस पार्टी को समर्पित किया। मेने संजय गांधी जी, इंदिरा जी, राजीव जी और अब राहुल गांधी के साथ काम कर रहा हूं।

आपको विधानसभा चुनाव के आखिरी नतीजे आने के बाद से ही सीएम के नाम को लेकर माथापच्ची शुरू हो गई थी। कांग्रेस पर्यवेक्षक ए के एंटनी के साथ मंथन के बाद कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया को गुरुवार को पार्टी आलाकमान से बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया गया। जहां कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ दोनों नेताओं की बैठक हुई। इसके बाद सीएम पद के दावेदार दोनों नेता बाहर निकले तो उन्होंने भोपाल में सीएम के नाम का ऐलान होने की बात कही। रात 8 बजे के करीब राहुल गांधी ने ज्योतिरादित्य सिंधिया और कमलनाथ के साथ अपनी तस्वीर ट्विट करते हुए उसमें लिखा- The two most powerful warriors are patience and time... यानि धैर्य और समय 2 सबसे शक्तिशाली योद्धा

इसके बाद रात साढ़े आठ बजे कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया भोपाल के लिए रवाना हो गये। रात सवा दस बजे दोनों नेता भोपाल एयरपोर्ट पहुंचे। जहां पहले से पार्टी के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह के अलावा पार्टी कार्यकर्ताओं का हुजूम मौजूद था। इसके बाद सभी कांग्रेस दफ्तर पहुंचे। रात साढ़े दस बजे कांग्रेस विधायक दल की बैठक शुरू हुई। दफ्तर के अंदर बैठक हो रही थी तो बाहर कार्यकर्ताओं की भीड़ थी। रात 11 बजे पार्टी पर्यवेक्षक ए के एंटनी की मौजूदगी में वरिष्ठ नेता भंवर जितेंद्र सिंह ने आम राय से कमलनाथ को नेता चुने जाने का ऐलान किया। दरअसल कांग्रेस विधायक दल ने बुधवार को ही प्रस्ताव पारित कर नेता चुनने का अधिकार राहुल गांधी को सौंप दिया। गुरुवार को दिल्ली में कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बैठक में राहुल गांधी ने सीएम के नाम पर अपनी मुहर लगा दी। जिसका ऐलान भोपाल में किया गया। हालांकि दोनों नेताओं के समर्थक अपने-अपने नेता को मुख्यमंत्री के तौर पर देखना चाहते थे। इसके लिए दोनों के समर्थकों ने भोपाल में पार्टी दफ्तर के बाहर हंगामा भी मचा। लेकिन फैसला कमलनाथ के पक्ष में रहा जो अब प्रदेश के 18वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करेंगे।        

ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये रिपोर्ट...