बंपर वोटिंग: पंजाब में 74 और गोवा में 83 फीसदी लोगों ने डाले वोट

नई दिल्ली ( 5 फरवरी ): पंजाब और गोवा विधानसभा चुनाव शनिवार को भारी मतदान हुआ। वोट डालने के लिए लोगों में काफी उत्साह दिखाई दिया। शाम पांच बजे तक जहां पंजाब में 1.98 करोड़ में से 74 फीसद मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, वहीं गोवा में 83 फीसद मतदाताओं ने वोट डाले।

पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए 1145 प्रत्याशियों का भाग्य ईवीएम में कैद हो गया। मतदान सुबह आठ बजे से शाम 6 बजे तक चला। पंजाब के पांच जिलों में मतदान 80 फीसद से ज्यादा रहा। राज्य में पिछली बार 78.20 फीसद मतदान हुआ था।

राज्य में 67 जगह ईवीएम में खराबी की शिकायतें आईं, जिससे मतदान में विलंब हुआ। मजीठा में मतदान में 3 घंटे की देरी हुई। जालंधर, अमृतसर, मुक्तसर, कपूरथला, सुल्तानपुर लोधी, कादियां, अजनाला व लहरागागा पर ईवीएम खराब हुईं।

जालंधर जिले के सेंट्रल हलके में बशीरपुरा के पास वोट डालकर बूथ से बाहर आते ही एक युवक की मौत हो गई। हालांकि मौत की वजह का पता नहीं चल पाया। अमृतसर के विधानसभा राजा सांसी के गांव भिंडी सैदा में अकाली और कांग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए।

दोनों तरफ से ईंट-पत्थर चले। पुलिस ने लाठीचार्ज कर स्थिति को काबू किया। गुरदासपुर के हलका डेरा बाबा नानक के कलानौर बूथ पर आप और कांग्रेस कार्यकर्ताओं में झड़प हुई। पगड़ियां उतर गईं। फिल्लौर में बसपा व आप कार्यकर्ता भिड़ गए। फिरोजपुर के गुरहरसराय व तरनतारन में फायरिग की घटनाएं हुईं, लेकिन कोई जानी नुकसान नहीं हुआ।

गोवा की 40 सीटों के लिए कुल 250 उम्मीदवारों का भाग्य ईवीएम में बंद हो गया। राज्य के 11.10 लाख मतदाताओं में से करीब 83 फीसद ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। राज्य के खनन वाले इलाके संखालिम, बिचोलिम और क्यूरकोरेम में भारी मतदान हुआ। मतदान के लिए सुबह से ही बूथों पर लोग भारी संख्या में पहुंचने लगे थे।

मतदान शांतिपूर्वक संपन्न हो गया और कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। रक्षा मंत्री मनोहर पर्रीकर, केंद्रीय मंत्री श्रीपद नाईक और मुख्यमंत्री लक्ष्मीकांत पारसेकर शुरुआत में ही वोट डालने वालों में शामिल रहे।

कुछ जगहों पर ईवीएम में गड़बड़ी के मामले सामने आए और एक बूथ पर मतदान रद्द कर दिया गया। पणजी में एक बूथ पर अपनी बारी का इंतजार कर रहे 78 वर्षीय लेस्ली सल्दान्हा की मौत हो गई। मतगणना 11 मार्च को होगी।