Blog single photo

तीन राज्यों में हार के बाद आज दिल्ली में बीजेपी संसदीय दल की बैठक

तीन राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद आज दिल्ली में बीजेपी पार्लियामेंट्री पार्टी की मीटिंग होने जा रही है। सुबह साढ़े नौ बजे शुरू होने वाली इस बैठक को पीएम मोदी और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह संबोधित कर सकते हैं

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 दिसंबर): तीन राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद आज दिल्ली में बीजेपी पार्लियामेंट्री पार्टी की मीटिंग होने जा रही है। सुबह साढ़े नौ बजे शुरू होने वाली इस बैठक को पीएम मोदी और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह संबोधित कर सकते हैं।  इसके बाद शाह ने दिल्ली में ही राष्ट्रीय पदाधिकारियों की मीटिंग भी बुलाई है। जिसमें वो राज्यों के स्तर पर पार्टी के संगठन को मजबूत बनाने पर जोर देंगे। ये बैठक दोपहर 12 बजे के बाद होगी।बताया जा रहा है कि फाइनल मुकाबले से पूर्व सेमीफाइनल में मिली हार के बाद बीजेपी ने मिशन 2019 के लिए पूरी तरह से तैयारी के लिए मंथन करेगी। इस क्रम में पीएम नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह पार्टी पदाधिकारियों, राज्य प्रभारियों और संगठन मंत्रियों के साथ राष्ट्रव्यापी बूथ योजना पर सात घंटे की समीक्षा करेंगे। हर बूथ में मजबूत उपस्थिति दर्ज कराने के लिए तीन महीने पूर्व पार्टी की दिल्ली में हुई राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राष्ट्रव्यापी बूथ योजना तैयार की गई थी। इसके अलावा इसी बैठक में मंगलवार को आए पांच राज्यों के नतीजे पर भी चर्चा होगी। खासतौर से पार्टी नाराज अगड़ों द्वारा बड़ी संख्या में नोटा को विकल्प के रूप में चुनने, किसान वर्ग के बीच बढ़ती नाराजगी और अचानक बढ़े कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के सियासी कद के काट की रणनीति भी तैयार करेगी।गौरतलब है कि खासतौर से पार्टीशासित राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में करीब 13 लाख मतदाताओं ने नोटा को विकल्प के रूप में आजमाया। इनमें से ज्यादातर भाजपा समर्थक मतदाता थे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि अगर नोटा का इस्तेमाल कम होतो तो निश्चित रूप से न सिर्फ मध्यप्रदेश की सरकार बचती, बल्कि राजस्थान और छत्तीसगढ़ में मध्यप्रदेश की की तरह ही कांटे का मुकाबला होता। बृहस्पतिवार को होने वाली बैठक में पीएम के भी शामिल रहने की उम्मीद है। सूत्रों का कहना है कि नतीजे से लगे झटके के तत्काल बाद मैराथन बैठक बुला कर मोदी-शाह पार्टी का आत्मविश्वास बनाए रखने के अलावा अभी से लोकसभा चुनाव की ठोस तैयारी शुरू कर देना चाहते हैं। बैठक में नेतृत्व देखेग कि कार्यकारिणी में तैयार बूथ योजना की कहां तक प्रगति हुई।

Tags :

NEXT STORY
Top