संदीप कुमार सीडी कांड: कपिल मिश्रा ने दी आशुतोष को सीख, लिखा ब्लॉग

नई दिल्ली (3 सितंबर): केजरीवाल सरकार के पूर्व मंत्री संदीप कुमार के अश्लील सीडी कांड को 'सहमति से सेक्स' का मामला बताने आप के प्रवक्ता आशुतोष का महंगा पड़ता दिखाई दे रहे हैं। केजरीवाल के एक और मंत्री कपिल मिश्रा ने 'बा और बापू' के संबंधों पर एक ब्लॉग लिखकर इशारों इशारों में आशुतोष को सीख दी।

दिल्ली सरकार में पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा ने 'बा और बापू' के संबंधों पर एक ब्लॉग लिखा है। मिश्रा ने इसमें सीधे तौर पर आशुतोष का जिक्र तो नहीं किया है, लेकिन निशाना उन पर ही है। मिश्रा ने ब्लॉग में लिखा है कि बापू पर्दा डालने, ढंकने या छिपाने के लिए नहीं, बल्कि दुविधा दूर करने की चाभी हैं।

पढ़ें कपिल मिश्रा का ब्लॉग... 'बा और बापू का संबंध समझना आसान नहीं है। बा के बिना बापू संभव ही नहीं। बा ने कुछ पत्र भी लिखे बापू को, उनको पढ़ें तो शायद प्रेम और प्यार की अलग ही समझ शुरू हो जाए। आज अचानक किसी बात को सीधे बापू से जोड़ देना, उनके जीवन के किसी एक पक्ष से जोड़ देना आसान जरूर है पर सही नहीं है।

उस ऐनक, लाठी, धोती वाले महात्मा के जीवन से सीखने के लिए भी कई जीवन चाहिए। बा जैसा समर्पण व प्रेम ... ये सब शांत चित्त से सोचने, मनन करने के लिए है।

अभी कुछ दिन पहले मैं साबरमती आश्रम गया था, बापू के जीवन के बारे में लिखा है वहां, उनकी बातें, उनके लेख, उनके सत्याग्रह ... जीवन में, अपने अंदर सत्य के लिए आग्रह। खुद के अंदर अहिंसा का भाव। बापू सिर्फ अंग्रेजों से थोड़ी आज़ादी दिलाने आए थे, वह जो आज़ादी दिलाने आए थे वो जिस स्वराज, सत्य व अहिंसा की बात करते थे वह अपनानी इतनी मुश्किल थी कि हमने बापू को ही छोड़ दिया। जिन्होंने बापू को मारा वे किस बात से डरते थे? क्या ताकत थी उस बूढ़े में कि गोडसे जैसों को लगा कि खत्म ही करना पड़ेगा?

एक मुट्ठी नमक से दुनिया के बादशाहों को हिलाने के लिए जो नैतिक, आध्यात्मिक, सामाजिक शक्ति व स्वीकृति बापू के पास थी वो नकली हो ही नहीं सकती। बापू के जीवन से तुलना तब की जाए जब ऐसा तराजू हो जो नाप सके, तोल सके।

बापू ने तो एक बच्चे को ज्यादा गुड़ मत खाओ ये कहने में भी 10 दिन लगा दिए, क्योंकि पहले खुद ज्यादा गुड़ खाने की आदत पर संयम किया फिर सीख दी। दूसरों पर जय से पहले खुद को जय करना। बापू तो कुंजी है, चाभी है, दुविधा दूर करने के लिए है ... बापू पर्दा नहीं है। ढंकने और छिपाने के लिए बापू नहीं है। ईश्वर अल्लाह तेरो नाम , सबको सन्मति दे भगवान