आशिष नेहरा ने लॉर्डस में वो कर दिखाया जो सचिन-सहवाग भी नहीं कर सके

नई दिल्ली (1 नवंबर): टीएम इंडिया के तेज गेंदबाज आशिष नेहरा आज इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने जा रहे हैं। अपने पूरे करियर के दौरान बाएं हाथ के तेज गेंदबाज नेहरा अपने गेंद से बल्लेबाजों को चकमा देते रहे। लेकिन क्रिकेट का मक्का कहे जाने वाले मैदान लॉड्स में नेहरा बल्ले से वो कमाल कर दिखाया जो आजतक सिर्फ वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स ने किया था। सचिन और सहवाग भी अपने पूरे करियर के दौरान नहीं कर पाए। 

दरअसल 2002 में टीम इंडिया इंग्लैंड के दौरे पर गई थी। इस दौरे में लॉर्ड्स में खेले गए टेस्ट मैच में टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा था। लेकिन इसी टेस्ट की चौथी पारी में अजीत आगरकर ने अपने टेस्ट करियर का इकलौता शतक जड़ा था। उनकी इस पारी के दौरान 9 विकेट गिर गए थे। आगरकर 67 रन पर खेल रहे थे। दसवें विकेट के लिए उनका साथ देने आशीष नेहरा आए। नेहरा ने आगरकर के साथ दसवें विकेट के लिए 60 रन की साझेदारी की थी। उन्होंने 54 गेंद पर 19 रन बनाए थे। नेहरा ने इस दौरान 2 चौके और एक छक्का भी जड़ा। उनका ये छक्का हमेशा के लिए यादगार बन गया। 

नेहरा ने लॉर्ड्स में एंड्रर्यू फ्लिंटाफ की गेंद पर जो छक्का जड़ा वो सीधे मैदान से बाहर चला गया। ऐसा लॉर्ड्स के टेस्ट इतिहास में केवल दो बार हुआ है। पहली बार इस ऐतिहासिक मैदान पर ये कारनामा वेस्टइंडीज के महान बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स ने किया था। उसके बाद नेहरा ही गेंद को मैदान से बाहर पहुंचाने में सफल रहे।