''संविधान का सम्मान करता हूं, नहीं बोलूंगा भारत माता की जय''

नई दिल्ली (14 मार्च): अपने बयानों को लेकर सुर्खियों में रहने वाले एमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने ऐसा कुछ कहा है जिससे विवाद हो सकता है। लातूर ज़िले में एक सभा में ओवैसी ने साफ ऐलान किया कि वह भारत माता की जय नहीं बोलेंगे।

ओवैसी ने सभा में मौजूद लोगों से कहा कि मैं भारत में रहूंगा पर भारत माता की जय नहीं बोलूंगा। क्योंकि यह हमारे संविधान में कहीं नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है। चाहे तो मेरे गले पर चाकू लगा दीजिए, पर भारत माता की जय नहीं बोलूंगा। इसकी आज़ादी मुझे मेरा संविधान देता है। उन्होंने कहा कि संविधान में कहीं नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है। मैं अपने संविधान का सम्मान करता हूं और करता रहूंगा।

ओवैसी के बयान पर बीजेपी-शिवसेना भड़की हुई है। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री सुधीर मुंगटीवार ने कहा कि अल्ला ताला, ओवैसी को सदबुद्धि दे, हम यही दुआ करेंगे। स्थानीय प्रशासन ओवेसी के बयान की जांच करेगी। अभिव्यक्ति की आजादी को आधार बनाकर कोई भी बयान नहीं दिया जा सकता है। वहीं शिवसेना नेता और महाराष्ट्र सरकार में  मंत्री रामदास कदम ने कहा कि ओवैसी कहते हैं कि भारत मां की जय नहीं कहूंगा, तो ये बहुत गंभीर बात है। ओवैसी पाकिस्तान चला जाए। मुख्यमंत्री से कहूंगा कि इस बयान की वो जांच कराएं और ओवैसी पर कार्रवाई करें। इस हरे सांप को दूध नहीं पिलाना चाहिए।

औवेसी की इस बयान की आलोचना करते हुए सपा नेता अबू आजमी ने कहा है कि हम भारत में रहते हैं और भारत माता की जय कहने में कोई बुराई नहीं है। औवेसी इस मुद्दे पर साफ राजनीति कर रहे हैं।