लखनऊ में कर दी गई ओवैसी की एंट्री बैन

नई दिल्ली (17 मार्च): अपने बयानों को लेकर विवादों में घिरने वाले ऑल इण्डिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की लखनऊ में होने वाली रैली के लिए जिला प्रशासन से इजाजत नहीं मिली।

एआईएमआईएम ने इजाजत नहीं दिए जाने के बाद इसे राज्य की सपा सरकार की घबराहट का नतीजा बताया है। प्रान्तीय अध्यक्ष शौकत अली ने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा रैली के लिए इजाजत नहीं दिए जाने के बाद ओवैसी का दो दिवसीय प्रदेश दौरा भी निरस्त हो गया है। सरकार की यह हरकत निन्दनीय है। उन्होंने कहा कि ओवैसी को न तो रैली करने की इजाजत है और न ही रोड शो करने की। ऐसे में उनके दौरे का कोई अर्थ नहीं था। ओवैसी को अपने दौरे के दौरान बाराबंकी, फैजाबाद और आजमगढ़ भी जाना था।

अली ने आरोप लगाया कि सपा सरकार के पास ओवैसी का मुकाबला करने की हिम्मत नहीं है । उत्तर प्रदेश में आपातकाल लगा है। जनता से चुने गये एक सांसद और पार्टी अध्यक्ष को प्रदेश में आने से बार-बार रोका जा रहा है। लोकतंत्र का गला घोंटा जा रहा है। उन्‍होंने दावा किया कि इस सरकार ने पिछले चार साल के दौरान मुसलमानों से किए गए वादे पूरे नहीं किए हैं और सूबे में दलित तथा मुस्लिम वर्ग के लोग एआईएमआईएम के साथ आ रहे हैं, वहीं अति पिछड़े वर्ग के लोग भी बहुत तेजी से जुड़ रहे हैं। यही वजह है कि यह सरकार ओवैसी से घबराई है।