ओवैसी ने दी माया-मुलायम को सीधे चुनौती

अशोक तिवारी, लखनऊ (8 फरवरी): मुस्लिम नेता और हैदराबाद के एमपी असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी में मुलायम सिंह और मायावती को सीधे चुनौती दे दी है। विधानसभा के उपचुनाव में उतरी ओवैसी की एमआईएम मुस्लिम-दलित वोट को टार्गेट कर रही है और इसीलिए ओवैसी ने प्रचार के दौरान जय भीम-जय मीम का नारा दिया है।

राहुल गांधी पहले से ही पीएम मोदी को दलित के मुद्दे पर घेर रहे हैं, ऐसे में अब ओवैसी का दलितों और मुस्लिमों को एक करने का नारा। यूपी की सियासत में इस बार एक नया रंग जरूर आता दिख रहा है। यूपी चुनाव अभी दूर हैं लेकिन अभी से ही नए-नए सियासी समीकरण बनने शुरु हो गए हैं। जिस तरह से एआईएमआईएम के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने यूपी में दलित और मुसलमानों को लेकर जय भीम, जय मीम का नारा दिया है उससे मुलायम, माया से लेकर बीजेपी सबकी नींद उड़ गई है।

ओवैसी के मुस्लिम-दलित फॉर्मूले ने यूपी की सियासी लड़ाई को दिलचस्प बना दिया है। भले ही ऐसा ही दावा करने के बाद उन्हें बिहार में करारी शिकस्त मिली थी। अब सवाल ये है कि अपने भाषणों को क्या वोट में तब्दील कर पाएंगे ओवैसी। वो भी तब जब यूपी में दलितों के सबसे बड़े नेता के तौर पर मायावती मौजूद हैं और मुस्लिम वोटों पर मुलायम अपना एकाधिकार जताते आ रहे हैं।

इधर दलित वोट को साधने में कांग्रेस और बीजेपी के बड़े नेता भी जोर सोर से लगे हैं। राहुल दलितों के मुद्दे पर हैदराबाद में भूख हड़ताल तक पर जा बैठे थे तो मोदी रविदास जयंती के मौके पर 22 तारीख को वाराणसी में दिखाई दे सकते हैं। ऐसे में अब ओवैसी का नारा जय भीम, जय मीम क्या यूपी में कुछ गुल खिला पाएगा।