पाकिस्तान जल्द बाॅलीवुड फिल्मों से हटा सकता है बैन

नई दिल्ली ( 18 जनवरी ):  भारत में पाकिस्तानी कलाकारों को बैन करने के बदले में बॉलिवुड की फिल्मों पर रोक लगाने के चार महीने ही बीते हैं और पाकिस्तान के थिअटर्स आर्थिक हालत बुरी हो गई है। इस समस्या को देखते हुए इस्लामाबाद ने बॉलीवुड फिल्मों की स्क्रीनिंग से बैन हटाने तैयारी की है। उरी हमले के बाद भारत में पाकिस्तान कलाकारों को बाॅलीवुड में बैन कर दिया गया था। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने एक कमेटी बनाई है। उस कमेटी के सामने लोकल थिएटर मालिकों ने अपनी बात रखी कि बालीवुड फिल्मों के बैन से उनको भारी आर्थिक नुकसान हो रहा है। इसी के बाद कमिटी ने भारतीय फिल्मों से बनै हटाने का फैसला लिया।

इस कमेटी की अध्यक्षता सूचना मंत्री मरियम औरंगजेब समेत इरफान सिद्दकी, नवाज शरीफ के राष्ट्रीय इतिहास और साहत्यिक विरासत सलाहकार, वित्त सचिव और खुफिया अधिकारी शामिल थे।पैनल द्वारा जारी अधिसूचना में शर्तों का उल्लेख नहीं किया गया है, लेकिन प्रधानमंत्री बालीवुड फिल्मों को इम्पोर्ट करने की अनुमति दे सकते हैं। इस आयात नीति के आदेश के तहत पाकिस्तान ने पिछले एक दशक में प्रतिबंधित वस्तुओं की सूची में भारतीय फिल्मों को भी शामिल किया था।

पिछले कुछ वर्षों में अपनाया प्रक्रियाओं के अनुसार, वाणिज्य मंत्रालय भारतीय फिल्मों के आयात के लिए सूचना मंत्रालय के अनुरोध पर अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) जारी किए हैं।

पाक सूचना मंत्रालय ने पाकिस्तानी सिनेमाघरों में बालीवुड फिल्मों के रिलीज के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र के माध्यम से एक महीने में दो या तीन फिल्में रिलीज करने की योजना तैयार की है।

पाकिस्तानी सिनेमाघरों को बाॅलीवुड और हाॅलीवुड से 70 फीसदी कमाई होती है।