RBI ने ब्याज दर में नहीं की कटौती, सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार निराश

नई दिल्ली (7 जून): भारत सरकार के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमणियन ने RBI के ब्याज दर में कटौती नहीं करने के फैसले पर निराशा जताई है। अरविंद सुब्रमणियन का कहना है कि मौजूदा आर्थिक हालत में ब्याज में कटौती की दरकार है। उन्होंने कहा कि महंगाई दर नीचे है और ये लक्ष्य से भी कम है। साथ ही देश में इस साल अच्छे मानसून की उम्मीद है। तेल की कीमतें काबू में है। साथ ही उन्होंने कहा कि अभी ब्याज दर ज्यादा है और महंगाई दर कम है वहीं विकास की रफ्तार धीमी है।

अरविंद सुब्रमणियन ने कहा कि विकास की धीमी रफ्तार को तेज करने के लिए ब्याज दर में कटौती जरूरी है। आपको बता दे RBI ने आज वित्त वर्ष 2017-18 की दूसरी नीतिगत समीक्षा बैठक में ब्याज दरों में कोई कटौती न करने का फैसला लिया है। इस तरह रेपो दर फिलहाल 6.25 प्रतिशत और रिवर्स रेपो दर छह प्रतिशत पर ही बनी रहेगी। ब्याज दरें स्थिर रहने से विभिन्न बैंकों द्वारा दिए गए लोन पर वसूला जाने वाला ब्याज पहले के स्तर पर ही रहने की उम्मीद है।