देश में 5.25 से 5.75 फीसदी के बीच हो ब्याज दर- अरविंद सुब्रमण्यम

नई दिल्ली (11 जुलाई): देश के मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने देश में ऊंचे ब्याज दर पर अपनी नाराजगी जाहीर की है। उन्होंने रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी RBI को 5.25 से 5.75 फीसदी के बीच हो ब्याज दर निश्चित करने की सलाह दी है।

साथ ही उन्होंने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स यानी GST को सरकार की बड़ी उपलब्धि बताया है। उन्होंने कहा कि GST ने राजनीति के साथ ही तकनीकी और प्रशासनिक व्यवस्था पर भी असर डाला है। 

साथ ही उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद देश में तेजी से नए करदाताओं की पहचान हुई है। इनमें 5.4 लाख करदाता देश के निर्माण में सक्रिय योगदान के लिए सामने भी आ चुके हैं। वहीं उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद कैश होर्डिंग में 20 फीसदी तक की कमी आई है।

अरविंद सुब्रमण्यम ने कहा कि महंगाई पर लगाम लगाने की दिशा में हम सही तरीके से आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि आगामी मार्च तक हम अपनी तय सीमा तक महंगाई पर काबू कर लेंगे। इस दौरान उन्होंने कहा कि बड़े लोगों का लोन न लौटाना चिंता की बात है। ये देश की आर्थिक स्थिति पर नकारात्मक असर डाल रहा है। उन्होंने कहा कि किसानों के लोन माफ करने से इंफ्लेशन में कमी आएगी, ना कि इंफ्लेशन बढ़ेगा। 

केन्द्र की तरफ से राज्यों को दिए जाने वाले वित्तीय उधार में कोई उदारता नहीं बबरती जाएगी। कर्ज माफी के लिए राज्यों को अपने खर्चे कम करने और टैक्स लेने की जरूरत है, इससे इंफ्लेशन में भी कमी आएगी। सुब्रमण्यम का कहना है कि बड़े लोगों का कर्ज न लौटा चिंता का विषय है, जिससे देश की आर्थिक स्थिति पर भी नकारात्मक असर पड़ रहा है।