'टॉक टू एके' कार्यक्रम LIVE: सर्दियों में फिर लागू होगा ऑड-ईवन फार्मूला

नई दिल्ली (17 जुलाई): केजरीवाल के 'टॉक टू एके' के कार्यक्रम में मशहूर संगीतकार विशाल ददलानी मोडरेट कर रहे हैं। वो लोगों के सवालों को अरविंद केजरीवाल के सामने रखेंगे। इस कार्यक्रम में केजरीवाल ने कहा कि जनता से सीधा संवाद जरूरी है।

क्या कहा केजरीवाल ने....

> सरकार के पास पैसे की कमी नहीं है। दिल्ली सरकार ने कई प्रोजेक्ट्स में पैसे बचाए। > हमने दिल्ली में 20 लाख में डिस्पेंसरी बनाई। > हमने कई चीजों पर टेक्स कम किए और पैसे बचाकर दूसरे कामों में लगा रहे हैं। हमने शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली, पानी पर जोर दिया। > हमने शिक्षा का बजट पांच हजार से दस हजार करोड़ किया। > 45 नए सरकारी स्कूल बनकर तैयार हुए। > हमने एक साल में 8,000 क्लास रूम बनाए, पीडब्ल्यूडी और शिक्षा विभाग ने बेहतरीन काम किया। > मैंने अपने बेटे के एडमिशन के लिए भी सिफारिश नहीं की। > मैंने इंटर-स्टेट काउंसिल की बैठक में दालों की जमाखोरी का मुद्दा उठाया। > किसानों को आत्महत्या से रोकने के लिए केंद्र से चार कदम उठाने की अपील करता हूं। > MLAs की सैलरी बढ़ाने के सवाल पर अरविंद केजरीवाल ने दिया तर्क, हमने भ्रष्टाचार मिटाने MLAs की सैलरी बढ़ाई है। > सर्दियों में फिर लागू होगा ऑड-ईवन फार्मूला।

मोदी ने देश के लोगों से जुड़ने के लिए रेडियो का सहारा लिया और मन की बात करने लगे। ऐसे में केजरीवाल ने भी लोगों से जुड़ने का नया रास्ता निकाल लिया। उन्होंने मोदी के मन की बात के जवाब में टॉक टू AK शुरू करने का फैसला किया। दिल्ली सरकार का तर्क है कि राजनीति में जनता को सुनाने वाले बहुत हैं, लेकिन बात सुनने वाला कोई नहीं। ऐसे में केजरीवाल ने लोगों के सवालों का जवाब देने का फैसला किया। 

न्यूज़ 24 को मिली जानकारी के मुताबिक, शाम 4 बजे तक टॉक टू एके के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों से 19 हजार सवाल आ चुके हैं। जिसमें से दिल्ली के 5 हजार सवाल हैं। ये केजरीवाल की राजनीति का नया दांव है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मन की बात को जवाब है। लेकिन, विपक्ष का कहना है कि केजरीवाल जनता को धोखा दे रहे हैं। 

दरअसल, आम आदमी पार्टी की नजर अब दिल्ली में होने वाले MCD चुनाव पर है। ऐसे में आम आदमी पार्टी दिल्ली के लोगों के साथ अपने कनेक्शन को मजबूत करने के लिए नए सिरे से सोशल मीडिया पर एक्टिव हो गयी है, जिसमें टॉक टू केजरीवाल के जरिए माहौल बनाने की तैयारी है।