18 महीने में केजरीवाल सरकार ने चाय-समोसे पर खर्च डाले 1 करोड़ रुपये

वरुण सिन्हा, नई दिल्ली (6 सितंबर): आम आदमी की पाई-पाई बचाने के लिए आम आदमी पार्टी सरकार कितनी संजीदा है, इस बात का खुलासा एक आरटीआई में हुआ। दिल्ली सरकार के सिर्फ सीएम व डिप्टी सीएम दफ्तर ने ही साल भर में 58 लाख रुपये नाश्ते पर फूंक दिए। यह वो पैसा रहा जो कि दिल्ली की जनता ने टैक्स के रूप में सरकार के खजाने में भेजा था।

मुख्यमंत्री केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया के दफ्तर ने 14 फरवरी 2015 से जुलाई 2016 के बीच 58 लाख रुपये चाय, नाश्ते और अन्य खाने-पीने की चीजों पर खर्च कर दिए।

- 18 महीने में 1 करोड़ रुपये मेहमानों की आवाभगत में खर्च कर दिए। ये खुलासा दिल्ली सरकार को लेकर ही हुआ है। - आरटीआई से एक जानकारी मांगी गई कि दिल्ली सरकार ने मेहमानों के चाय-समोसे में कितने रुपये खर्च किए हैं तो जवाब आया 18 महीने में 1 करोड़ रुपये। - आम आदमी पार्टी इसे बीजेपी की साज़िश बता रही हैं। उनका कहना है कि ये आरटीआई बीजेपी नेता ने डाली थी और पार्टी ने कही भी इतने पैसों की बर्बादी नहीं की बल्कि उनके नेता और मंत्री सबसे कम खर्चें में काम चलाते हैं।

दिल्ली सरकार के मंत्रियों ने कितना पैसा कहा खर्च किया...

केजरीवाल के दफ्तर ने खर्च किए 47 लाख: मुख्यमंत्री केजरीवाल के दफ्तर ने 22 लाख 42 हजार 320 रुपये चाय, समोसे पर खर्च किए। वहीं मुख्यमंत्री के कैंप ऑफिस में नाश्ते पर 24 लाख 86 हजार 921 रुपये खर्च हुआ। इस प्रकार करीब 47 लाख रुपये मुख्य दफ्तर व कैंप ऑफिस ने खर्च किए।

डिप्टी सीएम सिसौदिया की ऑफिस का खर्चा 11.5 लाख: उप मुख्यमंत्री मनीष सिसौदिया के दफ्तर ने 5.62 लाख और कैंप ऑफिस ने 5.66 लाख रुपये नाश्ते पर खर्च किए।