मदर टेरेसा से जुड़े कार्यक्रम में वेटिकन जाएंगे केजरीवाल-ममता

नई दिल्ली (22 अगस्त): वेटिकन में 4 सितंबर को मदर टेरेसा को संत घोषित किए जाने वाले कार्यक्रम में मिशनरीज ऑफ चैरिटी ने जिन राजनेताओं को आमंत्रित किया गया है, उनमें दिल्ली, पश्चिम बंगाल और बिहार के मुख्यमंत्री शामिल हैं।

अरविंद केजरीवाल और ममता बनर्जी इस कार्यक्रम में शामिल होंगे, जबकि नीतीश कुमार ने जनता दल (युनाइटेड) के सीनियर लीडर केसी त्यागी को पार्टी का प्रतिनिधित्व करने की जिम्मेदारी सौंपी है। भारत के आधिकारिक प्रतिनिधिमंडल की अगुवाई फॉरेन मिनिस्टर सुषमा स्वराज करेंगी।

केजरीवाल के ऑर्गनाइजेशन के साथ 'व्यक्तिगत संबंधों' के कारण मिशनरीज ऑफ चैरिटी की तरफ से उन्हें कुछ महीने पहले एक व्यक्तिगत आमंत्रण दिया गया था। आम आदमी पार्टी के संयोजक केजरीवाल ने इंडियन रेवेन्यू सर्विस ज्वाइन करने से पहले 1992 में मदर टेरेसा द्वारा शुरू किए गए मिशनरीज ऑफ चैरिटी में काम किया था। माना जा रहा है कि केजरीवाल ने जुलाई के आखिरी हफ्ते में इवेंट में अपनी उपस्थिति की पुष्टि कर दी है।

केजरीवाल 2 सितंबर को रोम के लिए रवाना होंगे और 5 सितंबर को लौट आएंगे। यह पूरा प्रोग्राम पांच दिनों तक चलेगा। वहीं, मदर टेरेसा को संत की उपाधि 4 सितंबर को स्थानीय समयानुसार सुबह 10 बजे दी जाएगी। मदर टेरेसा की तरफ केजरीवाल का खास लगाव जगजाहिर है। 2015 की शुरुआत में जब आरएसएस के चीफ मोहन भागवत ने मिशनरीज ऑफ चैरिटी की तरफ से किए जाने वाले कार्यों की आलोचना की थी तो केजरीवाल ने खुलकर उनके पक्ष में बोला था।