अरुण जेटली का राहुल गांधी पर पलटवार, कहा- आखिर उन्हें पता ही कितना है ?

नई दिल्ली (6 जून): मध्यप्रदेश के मंदरसौर में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के दिए भाषण पर बीजेपी ने पटवार किया है। बीजेपी के वरिष्ठ नेता और वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल गांधी द्वार पीएम मोदी पर लगाए गए आरोपों को झूठा करार दिया है। अरुण जेटली ने कांग्रेस अध्यक्ष पर पटलवार करते हुए कहा कि आखिर उन्हें पता ही कितना है? राहुल गांधी पर कटाक्ष करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि वह बार-बार खुद से सवाल पूछते हैं कि राहुल कितना जानते हैं और कब जानेंगे ?अरुण जेटली ने कहा कि हर बार मैं जब राहुल गांधी को संसद के भीतर या बाहर सुनता हूं तो खुद से सवाल करता हूं- वह कितना जानते हैं? वह कब जानेंगे?। मध्य प्रदेश में उनके भाषण को सुनकर उनकी जिज्ञासा और प्रबल हुई है। क्या उन्हें पर्याप्त जानकारी नहीं दी जा रही या उन्हें तथ्यों की परवाह नहीं है।जेटली ने राहुल गांधी के उस बयान को भी पूरी तरह गलत ठहराया, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि किसानों को नहीं, बल्कि उद्योगपतियों को लोन मिल रहा है। जेटली ने कहा कि आज जो फंसा कर्ज यानी एनपीए है उसमें से अधिकांश यूपीए-दो के कार्यकाल के दौरान 2008-14 की अवधि में दिए गए थे। 2014 के बाद मोदी सरकार इस लोन की वसूली के लिए एक के बाद एक कदम उठा रही है।जेटली ने कहा कि राहुल गांधी का यह कथन कि प्रधानमंत्री ने देश छोड़कर भाग चुके दो हीरा कारोबारियों को प्रत्येक को 35,000 करोड़ रुपये दिए हैं, पूरी तरह गलत है। जेटली ने कहा कि यह बैंक फ्रॉड 2011 में शुरु हुआ, उस समय यूपीए-दो की सरकार थी। एनडीए के शासन में तो यह फ्रॉड पकड़ा गया है। जेटली ने कहा कि राहुल गांधी को पर्याप्त जानकारी भी नहीं है। 

जेटली ने मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के कार्यकाल की याद दिलाते हुए राहुल के उस कथन का जवाब दिया, जिसमें उन्होंने कहा था कि कांग्रेस की सरकार बनने पर गांवों और खेतों को शहरों से जोड़ा जाएगा। जेटली ने कहा कि मध्य प्रदेश की जनता ने जब 2003 में कांग्रेस को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाया, उस समय भारत में सबसे खराब सड़कें एमपी में ही थीं। कांग्रेस के सत्ता से उखड़ने की प्रमुख वजह ही खराब सड़कें थीं।