बजट 2018: जानें क्या हुआ महंगा और क्या हुआ सस्ता, देखें पूरी लिस्ट

नई दिल्ली ( 1 फरवरी ): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने 2018-19 का बजट संसद में पेश किया। जीएसटी लागू होने के बाद बजट में आइटमों के सस्ते और महंगे होने की बहुत गुंजाइश नहीं थी। ऐसे में अब कस्टम ड्यूटी घटने या बढ़ने से कुछ आइटमों के दाम महंगे और सस्ते हुए हैं। 

वित्त मंत्री ने अपने भाषण में बताया कि मोबाइल और टीवी जैसे आइटमों पर सीमा शुल्क (कस्टम ड्यूटी) 15 पर्सेंट से बढ़ाकर 20 पर्सेंट किया गया है। वहीं काजू पर कस्टम ड्यूटी 5 प्रतिशत से 2.5 प्रतिशत की गई है। सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर एक्साइज ड्यूटी में कमी की है, लेकिन उपभोक्ताओं को इसका फायदा नहीं होगा। क्योंकि इस पर इतना ही इन्फ्रास्ट्रक्चर सेस लगा दिया गया है।

इस फैसले से भारत में बिकने वाले सभी कंपनियों के स्मार्टफोन महंगे होंगे। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि भले ही तमाम कंपनियां भारत में अपने फोन असेंबल कर रही हों, लेकिन इनमें ज्यादातर के पार्ट्स चीन से ही आते हैं। कुछ ऐसा ही मामला टीवी का भी है। ऐसे में चाहे वह फोन या टीवी मेड इन इंडिया हो या फिर असेंबल इन इंडिया हो दोनों प्रकार के फोन महंगे होंगे। बता दें कि भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाले शाओमी के फोन भी महंगे होगे। 

इसके अलावा वित्त मंत्री ने काजू प्रसंस्करण उद्योग को की मदद करने के उद्देश्य से कच्चे काजू पर सीमा शुल्क को 5 प्रतिशत से घटाकर 2.5 प्रतिशत करने का प्रस्ताव रखा है। वहीं कस्टम ड्यूटी बढ़ने से आयातित जूस के दाम भी बढ़ेंगे। 

ये आइटम हुए महंगे  मोबाइल, टीवी सेट्स, लैपटॉप, लग्जरी गाड़ियां, चांदी के सिक्के, सिगरेट, पान मसाला, जर्दा, सिगार, खैनी, एलईडी लाइट, एलईडी लैम्प, स्टेनलेस स्टली लेप्स, लेदर फुटवियर, लेदर प्रोडक्ट्स, परफ्यूम, आफ्टर शेव, डियोडरेंट्स, रूम फ्रैशनर, बालों, आयातित जूस, एलसीडी/एलईडी/ओएलईडी पैनल, टीवी के पुर्जे, स्मार्ट वॉच फुटवियर, धूप के चश्मे, सिगरेट लाइटर, खिलौने, बस, ट्रक के टायर, मूंगफली का तेल। 

ये वस्तुएं हुईं सस्ती  ऑनलाइन रेलवे टिकट, एलएनजी फिनिश्ड लेदर, सोलर टेम्पर्ड ग्लास, पीओएस मशीन, डिब्बा बंद वेजिटेबल्स, सिल्वर फॉयल, फिंगर स्कैनर, सौर बैटरी, देश में तैयार हीरे, अप्रसंस्कृत काजू, सौर टेंपर्ड शीशे, कॉक्लीअर इम्प्लांट।