बोले अरुण जेटली, जो लश्कर कमांडर बनेगा, अब वह नहीं बचेगा

नई दिल्ली ( 27 नवंबर ): भारत ने 26/11 हमले की बरसी पर रविवार को आतंकियों के सफाये को लेकर कड़ा संदेश दिया। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने इशारों-इशारों में साफ कर दिया कि आतंकियों को उनके मंसूबों में कामयाब नहीं होने दिया जाएगा और घाटी में सुरक्षाबलों का ऑपरेशन जारी रहेगा। अरुण जेटली ने आतंकवाद का सर्मथन करने के लिए रविवार को पाकिस्तान को लताड़ा। जेटली ने गुजरात विधानसभा चुनाव से पहले कहा, 'जिन्होंने 9 साल पहले मुंबई आतंकी हमले को अंजाम दिया था वे दुनिया में अलग-थलग कर दिए गए हैं। समूचा विश्व कहा रहा है कि एक देश जो आतंकवाद को सर्मथन देता है, उसके लिए दुनिया में कोई जगह नहीं है।'

उन्होंने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में हालात बेहतर हुए हैं। जेटली ने कहा, 'आज स्थिति ऐसी है कि जो भी लश्कर का कमांडर बनता है उसे पता होता है कि वह दो या तीन महीने से ज्यादा जीवित नहीं रह पाएगा। पिछले 8 महीने से यह हाल है कि जो लश्कर का कमांडर बनेगा वह ज्यादा दिन नहीं बचेगा।'

26/11 की बरसी से 2 दिन पहले रिहा हुआ आतंकी हाफिज सईद को लेकर भी जेटली ने पाकिस्तान को घेरा। उन्होंने कहा कि 26/11 के मुंबई हमले की बरसी से 2 दिन पहले पाकिस्तान द्वारा हाफिज सईद को रिहा किया गया। ऐसे मामलों से दूसरे देश एक ऐसे देश का विरोध करने के लिए एकजुट होंगे जो आतंकवाद का समर्थन करता है। उन्हें वैश्विक परिवार में कोई स्थान नहीं मिलेगा।