'लोकतंत्र में विश्वास नहीं करते वामपंथी दल'

नई दिल्ली (6 मार्च): केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली ने रविवार को जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) विवाद पर अपने बयान में वामदलों पर हमला बोला है। यहां तक कि अरुण जेटली ने उन्हें देश विरोधी करार दे डाला। 

रिपोर्ट के मुताबिक, अरुण जेटली मथुरा में भाजपा के युवा संगठन भारतीय जनता युवा मोर्चा (बीजेवाईएम) के राष्ट्रीय अधिवेशन में बोल रहे थे। जेटली ने कहा कि "कम्युनिस्ट पार्टी महात्मा गांधी का विरोध करती थी और वे भारत को स्वायत्ता दिए जाने के खिलाफ थे।" उन्होंने कहा, "जब भारत को स्वतंत्रता मिली तो सभी वाम दल लोकतंत्र के खिलाफ थे। वाम दल भारत के हिंसक बटवारे में विश्वास रखते हैं।" 

जेटली ने कहा, "देश के खिलाफ बोलने की परंपरा में ये दल विश्वास रखते हैं। देश में जब आपातकाल लगा था, तब वामदल ही थे जिन्होंने कांग्रेस का इस कदम पर समर्थन किया था।" इसके अलावा जेल से छूटने के बाद जेएनयू में कन्हैया कुमार के भाषण पर टिप्पणी करते हुए वित्तमंत्री ने कहा कि "यह विचारधारा कि लड़ाई है जिसमें भाजपा की जीत हुई है।"