GDP ग्रोथ पर बोले अरुण जेटली, नोटबंदी-GST का असर पीछे छूटा, बेहतर की उम्मीद

नई दिल्ली ( 30 नवंबर ): वित्त मंत्री अरुण जेटली ने जीडीपी की दूसरी तिमाही के आंकड़े जारी होने के बाद कहा कि अगली तिमाही में और उछाल होगा। गुरुवार शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि GDP ग्रोथ रेट में वृद्धि के आंकड़ों से साफ है कि नोटबंदी और GST का प्रभाव खत्म हो गया है और अर्थव्यवस्था अब तेजी से आगे बढ़ रही है। उन्होंने उम्मीद जताई कि यह तेजी आने वाली तिमाहियों में भी जारी रहेगी।

जेटली ने कहा कि दो बड़े सुधार- नोटबंदी और जीएसटी हमारे साथ है। आने वाली तिमाहियों में भी अच्छा होगा। सबसे अहम पहलू ये है कि इस क्वार्टर का पॉजिटव रिजल्ट-मैन्यूफ्कैचरिंग में ग्रोथ से अहम बना है। फिक्स कैपिटल फॉर्मेशन 4.7 हो गया है। इससे साबित होता है कि इन्वेस्टमेंट बढ़ रहा है।

गुरुवार को जारी सरकारी आंकड़ों के मुताबिक देश की GDP विकास दर दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में 6.3 फीसदी रही है। इससे पहले पहली तिमाही में यह विकास दर 5.7 फीसदी के साथ तीन साल के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गई थी। इस बार जीडीपी में इजाफा सरकार के लिए राहत भरी खबर है।

बता दें कि गुरुवार को ही जीडीपी ग्रोथ रेट के आंकड़े जारी किए गए। भारत की GDP ग्रोथ रेट दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में 6.3 फीसदी रही है। इकनॉमिक ग्रोथ के ताजा आंकड़े देश के लिए अच्छी खबर है क्योंकि अप्रैल-जून तिमाही में ग्रोथ 5.7 फीसदी के साथ तीन साल में सबसे कम हो गई थी। यही नहीं, पिछली पांच तिमाहियों से ग्रोथ रेट में गिरावट भी देखी जा रही थी। 

वित्तमंत्री ने कहा कि पिछली पांच तिमाही में जीडीपी में लगातार गिरावट देखने को मिली थी। अब जीडीपी में 6.3 फीसदी विकास की दर से साफ है कि इसमें इजाफा होने लगा है। उन्होंने कहा कि सबसे अहम बात यह है कि इस बार जीडीपी की दर में सकारात्मक असर मैन्यूफैक्चरिंग बढ़ने से दिखा है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी लागू होने के बाद धीमी हुई अर्थव्यवस्था इससे निकल चुकी है।अब इसमें रफ्तार आने लगी है।

वित्त मंत्री ने कहा कि विदेशी निवेशकों के लिए देश के हालात बेहतर हुए हैं। मैन्युफैक्चरिंग सेक्टर में उछाल आया है। अगली तिमाही में अर्थव्यवस्था के और भी बेहतर रहने की उम्मीद है। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार के कड़े फैसलों से अर्थव्यवस्था और भी मजबूत हुई है।