कांग्रेस का पागलपन बढ़ते-बढ़ते खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है: अरुण जेटली

न्यूज24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जनवरी):  लंदन में हुई ईवीएम हैकथॉन में एक भारतीय साइबर एक्सपर्ट ने दावा किया कि 2014 में ईवीएम में गड़बड़ी की गई थी। इस पर वित्त मंत्री अरुण जेटली ने ईवीएम में गड़बड़ी की खबरों को बकवास बताया है। जेटली ने कहा कि कांग्रेस का पागलपन लगातार बढ़ रहा है। अरुण जेटली ने ट्वीट कर कहा, 'क्या चुनाव आयोग और चुनाव कराने की प्रक्रिया में लगे लाखों लोग इस गड़बड़ी में शामिल थे? और यूपीए के कार्यकाल में हुए चुनावों में बीजेपी को जीत मिली। यह पूरी तरह बकवास है।'

जेटली ने कहा कि पहले राफेल डील में गड़बड़ी की बात की, फिर 15 उद्योगपतियों का कर्ज माफ करने की बात कही और अब एक और झूट लाए हैं कि ईवीएम हैक थे। जेटली ने कहा, 'क्या कांग्रेस को लगता है कि जनता इतनी भोली है कि किसी भी उल्टी-सीधी बात को सच मान लेगी। कांग्रेस का पागलपन अब बढ़ते-बढ़ते खतरनाक स्तर तक पहुंच गया है।' जेटली इस समय मेडिकल चेकअप के लिए अमेरिका में हैं।

साइबर एक्सपर्ट ने जहां ईवीएम में गड़बड़ी की बात कही है, वहीं चुनाव आयोग ने कहा कि भारत में इस्तेमाल होने वाली ईवीएम में कोई छेड़छाड़ नहीं की जा सकती है। चुनाव आयोग ने यह भी कहा कि वह यह भी देखेंगे कि क्या इस पर कोई कानूनी कार्रवाई भी की जा सकती है?  लंदन से स्काइप के जरिए प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले का नाम सैयद सूजा बताया जा रहा है। सूजा ने कहा कि उसने 2014 में भारत छोड़ दिया था क्योंकि उसे अपनी जान का खतरा था। सूजा का दावा है कि उसके कई साथियों की भी हत्या की गई है।

इस पूरे मामले पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा, 'कांग्रेस के पास बहुत से फ्रीलांसर हैं, जो कभी कभी मोदी जी को हटाने में मदद मांगने के लिए पाकिस्तान भी पहुंच जाते हैं। आने वाले चुनाव में हार को देखते हुए वे (कांग्रेस) हैकिंग हॉरर शो बना रहे हैं।' उन्होंने कहा कि कपिल सिब्बल का वहां मौजूद होना कोई इत्तेफाक नहीं है। उन्हें कांग्रेस, राहुल गांधी और सोनिया गांधी ने वहां भेजा है। उन्होंने कहा, 'जिन लोगों को भी देश और देश की लोकतांत्रिक व्यवस्था को बदनाम करने की सुपारी दी गई है, उस सुपारी को यहां से लेकर कोई डाकिया तो जाना चाहिए ना। तो वो डाकिया भेजा गया है।'