कांग्रेस पर जेटली का पलट बार, कहीं ये बातें

नई दिल्ली (7 जून): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को मंदसौर रैली में भाजपा की मोदी सरकार पर जमकर हमला बोलते हुए आरोप लगाए। जिसके बाद देर शाम वित्तमंत्री अरुण जेटली ने फेसबुक के जरिए राहुल गांधी के एक-एक आरोप का जवाब दिया और उन्हें निराधार बताया। अरुण जेटली ने बुधवार को राहुल गांधी पर मध्यप्रदेश में एक रैली में 'पूरी तरह गलत' टिप्पणी करने का आरोप लगाया और कहा कि किसी भी उद्योगपति के कर्ज का एक रुपया भी माफ नहीं किया गया है।जेटली ने जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष की यह बात तथ्यात्मक रूप से पूरी तरह गलत है। मोदी सरकार ने उद्योगपतियों का एक रुपये का भी कर्ज माफ नहीं किया है। जिन लोगों के ऊपर बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों का बकाया है, उन्हें दिवालिया घोषित किया गया और उन्हें आईबीसी के जरिए उनकी कंपनी से बेदखल किया गया है। इस कानून को मोदी सरकार ने लागू किया। इनमें ज्यादतर कर्ज यूपीए शासन के दौरान दिए गए।वहीं दूसरे सवाल का जवाब देते हुए जेटली ने कहा यह तथ्यात्मक रूप से गलत है। बैंक धोखाधड़ी साल 2011 में शुरू हुई। उस समय यूपीए का शासन था। इस धोखाधड़ी का पता एनडीए सरकार के आने के बाद लगा। जेटली ने पार्टी की वेबसाइट पर 'वह कितना जानते हैं' शीर्षक वाले एक लेख में सवाल किया है कि क्या गांधी को अपर्याप्त जानकारी द जा रही है, या वह अपने तथ्यों के साथ बहुत उदार हैं।जेटली ने कहा, "जब भी मैं राहुल गांधी के विचार सुनता हूं, चाहे वह संसद के अंदर हों या बाहर। मैं खुद से बार-बार यही पूछता हूं - वह कितना जानते हैं? वह कब जानेंगे? मध्य प्रदेश में दिए गए उनके भाषण को सुनकर आज एक बार फिर इस प्रश्न का जवाब जानने की जिज्ञासा हुई। गौरतलब है कि राहुल गांधी ने कल मंदसौर में किसानों की रेली को संबोधित करते हुए मोदी सरकार पर जमकर हामला बोला था।