GST से भरा सरकारी खजाना, जुलाई में 92,283 करोड़ रुपये आए


नई दिल्ली (29 अगस्त): गुड्स एंड सर्विस टैक्स यानी GST के लागू होने के बाद पहले महीने सरकार ने जीएसटी के मद में कुल 92,283 करोड़ रुपये की वसूली की है। इस अवधि के लिए कुल 38.38 लाख रिटर्न दाखिल किए गए, जो कुल जीएसटी नंबर धारकों का 64.42 फीसदी है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि जीएसटीएन में अगस्त 2017 के दौरान पंजीकृत हुए कारोबारियों और कंपोजिशन डीलरों को छोड़ दें, तो जुलाई महीने के लिए कुल 59.57 लाख कारोबारियों या कंपनियों द्वारा रिटर्न दाखिल करना जरूरी था। 29 अगस्त 2017 की सुबह दस बजे तक 38.38 लाख रिटर्न दाखिल हुए, मतलब 64.42 फीसदी कारोबारियों ने जुलाई के लिए रिटर्न दाखिल किया।  

उन्होंने बताया कि जुलाई महीने के लिए 29 अगस्त, 2017 की सुबह 10 बजे तक सरकार के पास जीएसटी मद में कुल 92,283 करोड़ रुपये जमा हुए। इस राशि में से सीजीएसटी मद में 14,894 करोड़ रुपये, एसजीएसटी मद में 22,722 करोड़ रुपये, आईजीएसटी मद में  47,469 करोड़ रुपये और सेस के मद में 7198 करोड़ रुपये जमा हुए।  

गौरतलब है कि जीएसटी से पहले केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर विभाग और राज्यों के वाणिज्यिक कर विभाग में कुल 72.33 लाख करदाता पंजीकृत थे। इनमें से 58.53 लाख करदाताओं ने पूर्ण रूप से अपना माइग्रेशन जीएसटीएन में करवा लिया, जबकि 13.80 लाख करदाताओं की माइग्रेशन की प्रक्रिया में कुछ काम अभी भी शेष है। सरकार के मुताबिक 29 अगस्त, 2017 की सुबह 10 बजे तक कुल 18.83 लाख नए करदाताओं ने जीएसटीएन में पंजीकरण करवाया है।