अरुण जेटली की हालत नाजुक, रात 8 बजे देखने AIIMS जाएंगे PM मोदी

न्यूज़ 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(18 अगस्त): भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली की हालत काफी नाजुक बनी हुई है। एम्स में डॉक्टरों ने उनकी बिगड़ती हालत को देखते हुए वेंटिलेटर से हटाकर ईसीएमओ यानी एक्सट्राकॉर्पोरियल मेंब्रेन ऑक्सीजिनेशन पर शिफ्ट किया है। डॉक्टर लगातार उनकी सेहत पर नजर बनाए हुए हैं। अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार रात आठ बजे अरुण जेटली का हालचाल जानने एम्स जाएंगे। 

रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी उन्हें देखने एम्स पहुंचे। अरविंद केजरीवाल ने अरुण जेटली के परिजनों से हाल-चाल लिया। इलाज के साथ ही उनके लिए दुआओं का दौर भी जारी है। शनिवार को अरुण जेटली के जल्द स्वस्थ होने के लिए हवन किया गया। विश्व हिंदू परिषद के राष्ट्रीय प्रवक्ता विनोद बंसल ने ट्वीट किया, 'देश के प्रख्यात विधिवेत्ता, राजनेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के शीघ्र स्वस्थ होने की प्रभु से कामना करते हैं। '

अरुण जेटली का हालचाल जानने के लिए पिछले दो दिनों से एम्स में नेताओं का तांता लगा हुआ है। शनिवार सुबह उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री और बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती भी उनसे मिलने पहुंचीं थी। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी उनका हाल चाल लेने अस्पताल पहुंचे थे। शनिवार शाम गृह मंत्री अमित शाह भी एम्स पहुंचे। इससे पहले केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन अरुण जेटली को देखने एम्स पहुंचे थे। उनसे पहले केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह आज सुबह जेटली का हालचाल लेने एम्स गए।

इससे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने शुक्रवार को एम्स जाकर पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का हाल जाना। शुक्रवार शाम उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी एम्स पहुंचकर जेटली से परिवार वालों से मुलाकात की। जेटली नौ अगस्त से एम्स के आईसीयू में भर्ती हैं। सूत्रों के अनुसार 66 वर्षीय जेटली की स्थिति गंभीर बनी हुई है और डॉक्टरों की टीम उनकी स्थिति पर नजर रख रही है।

अरुण जेटली को सांस लेने में तकलीफ और बेचैनी की शिकायत के बाद एम्स में भर्ती किया गया था। हालांकि इसके बाद से उनके स्वास्थ्य को लेकर कोई बुलेटिन जारी नहीं किया गया है। अपनी खराब सेहत के कारण जेटली ने 2019 का लोकसभा चुनाव भी नहीं लड़ा था। पिछले साल 14 मई को एम्स में उनके गुर्दे का प्रत्यारोपण हुआ था और उस वक्त उनकी जगह रेल मंत्री पीयूष गोयल ने वित्त मंत्रालय का कार्यभार संभाला था। लंबे समय से डायबिटीज़ से ग्रसित होने के कारण अपने बढ़े हुए वजन को ठीक करने के लिये सितंबर 2014 में उन्होंने बेरियाट्रिक सर्जरी कराई थी।