J&K में युद्ध जैसे हालात, सेना फैसले लेने के लिए स्वतंत्र: जेटली

नई दिल्ली(25 मई): रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर में जंग जैसे हालात हैं और सेना वहां कोई भी फैसला लेने के लिए आजाद है।

- सेना के मेजर द्वारा जीप के बोनट पर पत्थरबाज को बांधने को लेकर विवाद हो गया था।

- जम्मू कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने इस घटना का विरोध किया था। बीजेपी सांसद परेश रावल ने तो यहां तक कहा था, "जीप पर पत्थरबाज की जगह अरुंधति रॉय को बांधना चाहिए।"

- पत्थरबाजों से बचने के लिए जीप के बोनट पर मेजर नितिन लीतुल गोगोई ने एक शख्स को बांध लिया था। इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था।

- मेजर गोगोई की जिक्र करते हुए जेटली ने कहा, "सिचुएशन से कैसे निपटना है, मिलिट्री ऑफिसर्स इसके सुझाव देते रहते हैं। जब आप वॉर जोन में हों तो स्थिति से कैसे निपटेंगे, इसे लेकर हमें अपने अफसरों को फैसला लेने की छूट देनी चाहिए।"

- "उन हालात में अफसरों को क्या करना है, इसके लिए उन्हें पार्लियामेंट मेंबर्स से पूछने की जरूरत नहीं होनी चाहिए।" जेटली जम्मू-कश्मीर में हालात के सवालों के जवाब दे रहे थे।