इतने खतरनाक मंसूबे थे 26 जनवरी से पहले पकड़े गये संदिग्ध आतंकियों के

नई दिल्ली(28 जनवरी): पिछले दिनों गिरफ्तार किये गये आईएसआईएस के संदिग्ध आतंकवादी भारत में हिंसा के जरिये शरिया कानून लागू करने की मंशा रखते थे। पूछताछ के दौरान इन संदिग्धों ने एनआईए को बताया कि उनका मकसद एक साथ कई स्थानों पर विस्फोट करके देश में सरकार के खिलाफ विद्रोह कराना था। वो भारत में सीरिया जैसे हालात पैदा करना चाहते थे और  सरकार को गिराना चाहते थे।

संदिग्धों ने जांचकर्ताओं को बताया कि वो भारी मात्रा में हथियार हासिल कर देश में आतंकी घटनाओं को लगातार अंजाम देना चाहते थे। एनआईए के मुताबिक संदिग्ध विभिन्न सोशल मीडिया के जरिए आईएस के संपर्क में थे। एनआईए की अर्जी पर कोर्ट ने उन्हें आगे की पूछताछ के लिए पांच फरवरी तक एनआईए की हिरासत में भेज दिया है। एनआईए ने 26 जनवरी से पहले देश के कई हिस्सों से आईएसआईएस के समर्थक इन सभी 14 संदिग्धों को गिरफ्तार किया था।