घुसपैठिये तो क्या इंडियन आर्मी न चाहे तो कुत्ते -बिल्ली भी सीमा नहीं लांघ सकते

नई दिल्ली (12 अक्टूबर): भारतीय सेना आतंकियों और पाकिस्तनी सेना की गतिविधियों पर अत्याधुनिक गैजट्स से नज़र रख रही है। कोई आदमी तो दूर कुत्ते और बिल्ली की मूवमेंट भी भारतीय सेना के गैजेट्स की निगरानी में होती है। एलओसी पर कश्मीर में भारत की सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। इसी वजह से लाइन ऑफ कंट्रोल पर ड्यूटी पर तैनात भारतीय जवान और भी चौकन्ने हो गए हैं। यहां कैमाफ्लाज़ पहने सेना के स्नाइपर्स का ड्यूटी मंत्र है-दुश्मन शिकार, हम शिकारी।

एलओसी से सटे जंगलों और पैदल रास्तों पर मौजूद पेड़ों पर तख्तियां लगाई गई हैं, जिस पर 'दुश्मन शिकार, हम शिकारी' लिखा हुआ है। पाक परस्त आतंकियों और पाकिस्तीनी सेना के खिलाफ भारत की जवाबी कार्रवाई के बाद से सीमा पर तैनात जवानों का मनोबल काफी ऊंचा है। वे पाकिस्तान की ओर से किसी भी सीजफायर उल्लंघन या आतंकियों व पाकिस्तानी बॉर्डर ऐक्शन टीम की घुसपैठ की कोशिशों को नाकाम करने के लिए पूरी तरह से तैयार हैं। घुसपैठिये ही नहीं जंगल में आवारा घूम रहे कुत्ते-बिल्लियों की हरकतों पर जवानों की पैनी नजर रहती है। सीमा पर तैनात जवानों का कहना है कि हम दुश्मन को कोई मौका नहीं देना चाहते।